कृषकों को मंडियों में न हो किसी तरह की परेशानी: खाडे

भोपाल, 25 मार्च। भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत गेहूँ खरीदी केन्द्रों में पंजीकृत किसानों से खरीदे गए गेहूँ की जानकारी लेते हुए कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने कलेक्ट्रेट में सम्पन्न समीक्षा बैठक में उपस्थित अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की। बैठक में सहकारी समितियों के सदस्य, मंडियो में नियुक्त आपरेटर्स से खरीदी केन्द्रों पर आने वाली समस्याओं के संबंध में चर्चा करते हुए आवश्यक निर्देश कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने दिए।
बैठक में कलेक्टर ने किसानों को किए जा रहे एसएमएस की जानकारी प्राप्त की। बैठक में आपरेटर्स द्वारा बताया गया कि एसएमएस के प्राप्त होने के पश्चात कृषक मंडियों में पहुंच रहे हैं। डॉ. खाडे ने कृषकों को प्याज का लाभकारी मूल्य दिलाने के लिए भावांतर योजना में पंजीयन की जानकारी लेते हुए बताया कि भावांतर भुगतान योजना में सम्मिलित चना, गेहूँ, मटर, सरसो एवं प्याज आदि में पंजीयन की तिथि को बढ़ाकर अब 31 मार्च कर दिया गया है।
कलेक्टर डॉ. खाडे ने बैठक में नाप तौल विभाग के अधिकारियों को निर्देशित किया कि मंडियों में स्थापित तुलाई कांटो का रख-रखाव ठीक ढंग से हो रहा है अथवा नहीं । यदि नहीं हो रहा है तो उनको दुरूस्त किया जाये । कृषकों को मंडियों में आने के उपरांत किसी भी प्रकार की कोई परेशानी नहीं होना चाहिए । मंडी परिसरों में कृषकों के लिए सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध रहें, यह भी सुनिश्चित किया जाये।
बैठक में कलेक्टर ने भावांतर भुगतान योजना में पंजीकृत किसानों के फसल के रकबा के सत्यापन की प्रक्रिया की जानकारी प्राप्त करते हुए उपस्थित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिए। बैठक में अपर कलेक्टर जी.पी.माली सहित खाद्य विभाग और संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।