23 बाघो सहित हजारों वन्य जीवों की जान खतरे में

उजागर हुई वन विभाग की बड़ी लापरवाही
साकिब कबीर/ रजत परिहार
भोपाल, 25 मार्च। राजधानी से सटे समरधा रेंज के केरवा, समसपुरा, भानपुर और सीहोर रेंज के कठौतिया खाईं बीट के जंगलों में करीब 5 दिन से भीषण आग लगी हुई है, जिसकी वजह से इन जंगलों में विचरण करने वाले 23 चिन्हित बाघों के अलावा हजारों वन्य जीवों की जान खतरे में है। आग इतनी भीषण है कि दिन में भी दस किमी. दूर से ही धुएं के गुबार देखे जा सकते हैं और शाम होते ही यह भीषण शोलों में तब्दील हो जाते हैं। इसके बावजूद वन विभाग के अधिकारी इससे अंजान हैं।
ग्रामीणों से सूचना मिलने के बाद राष्ट्रीय हिंदी मेल की टीम ने समसपुरा, केकडिय़ा, भानपुर, कठौतिया के जंगलों में घूमकर आग का जायजा लिया, इस दौरान जंगलों के बीच छोटे- छोटे गांवों में बसे ग्रामीणों ने बताया कि यह आग करीब 5 दिन पुरानी है। उन्होंने बताया कि इसकी सूचना वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को दी जा चुकी है, इसके बावजूद विभाग ने आग बुझाने के लिये पर्याप्त कदम नहीं उठाए। जबकि आग बुझाने में भानपुर और समसपुरा बीट का स्टाफ कुछ ग्रामीणों के साथ अपने दम पर ही आग बुझाने में जुटे हैं नेकिन सीमित संसाधनों के चलते आग बुझने की बजाय लगातार बढ़ती जा रही है। नाम न छापने की शर्त पर एक वनकर्मी ने बताया कि आग की गंभीरता से डीएफओ भोपाल डॉ. एसके तिवारी को अवगत करा दिया गया है लेकिन इसके बावजूद विभाग की तरफ से आग बुझाने की कोई पहल नहीं की गई है।
1000 हेक्टेयर जंगल खाक
जानकारी के मुताबिक 5 दिन में आग से करीब 1000 हेक्टेयर जंगल खाक हो चुका है। स्थानीय निवासियों ने बताया कि अगर आग पर जल्द काबू नहीं पाया गया तो कई हजार हेक्टेयर जंगल आग की भेंट चढ़ जाएगा।