…और जा पहुंचे चपरासी के द्वार..

 

वन विभाग में पदस्थ एक आईएफएस अधिकारी की अचानक तबियत खराब होने पर उनका प्राथमिक उपचार कराकर दिल्ली भेज दिया गया। साहब स्वस्थ होकर लौटते ही पैसे लौटाने चपरासी के द्वार जा पहुंचे। बड़े अधिकारी को देख चपरासी के होश उड़ गए, साहब उन्हें रुपए लौटाकर वापस आ गए। उक्त बात को लेकर सतपुड़ा भवन में चर्चा चल पड़ी है। साहब ईमानदार हैं, इन्हें यदि एक साल के लिए मुख्य पद पर बैठा दिया जाता है तो वन विभाग में फैली सारी गंदगी की सफाई हो जाएगी। सूत्र बताते हैं कि नौकरी के दौरान उक्त अधिकारी द्वारा जिलों में कराए गए कार्यों की आज भी तारीफ हो रही है। एक महिला अधिकारी ने सुझाव दिया है कि वनों को बचाना है तो उक्त अधिकारी को बड़ी जिम्मेदारी जल्द देनी चाहिए, नहीं तो नर्मदा किनारे रोपे गए पौधे हर साल याद आते रहेंगे। … खबरची