नपा में लटके ताले,परेशान आम लोग

बैतूल, 26 अप्रैल। प्रांतीय आव्हान के बाद बुधवार को एक दिवसीय हड़ताल के कारण नगरपालिका में सन्नाटा पसरा रहा। एक फाईल भी इधर से उधर नहीं हुई। कर्मचारी हड़ताल में शामिल होने के लिए राजधानी भोपाल गए थे। मांगों के कारण हड़ताल से पूरी नगरपालिका परिषद में रविवार जैसी स्थिति दिखाई दी। काम के लिए पहुंचे लोगों को बैरंग लौटना पड़ा। मप्र नगरीय निकाय कर्मचारी संघ ने पूर्व में अपनी 7 सूत्रीय मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने की चेतावनी दी थी। सरकार की ओर से मांगे पूरी नहीं हुई।
इसके बाद पूरे प्रदेश के हजारों कर्मचारी आज भोपाल के अंबेडकर पार्क तुलसीनगर पहुंच गए। संघ के प्रदेश अध्यक्ष राकेश मिश्रा के नेतृत्व में नगरीय निकाय विभाग के कर्मचारियों ने अपनी मांगों को लेकर हुंकार भरी। श्री मिश्रा ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि यदि सरकार नगरपालिका कर्मचारियों की मांगों पर ध्यान नहीं देती है तो आने वाले चुनाव में सबक सिखाया जाएगा। संघ के अन्य कर्मचारी नेताओं ने मांगे पूरी नहीं होने के कारण अपनी नाराजगी मंच से जाहिर की। बैतूल से कर्मचारी संघ के अध्यक्ष मदन विजयकर के नेतृत्व में एक दर्जन नपाकर्मी भोपाल पहुंचे। इनमें जल उप निरीक्षक अनिल चौकीकर, स्वच्छता निरीक्षक अशोक वाघमारे, कार्यालय अधीक्षक विजय हुद्दार, सहायक ग्रेड-3 एसके दुबे सहित अन्य कर्मचारी शामिल थे। भोपाल से श्री हुद्दार ने दूरभाष पर बताया कि राज्य शासन ने कर्मचारियों की 7 सूत्रीय मांगे पूरी नहीं की है। सातवां वेतनमान का आदेश जारी हुआ है।
यह गलत तरीके से हुआ है। इसे छटवें वेतनमान के समान जारी करने, समयमान वेतन वर्ष 2006 से दिया गया है, लेकिन नपाकर्मी इससे अछूते है, वर्ष 2007 के बाद के कर्मचारियों को नियमित करने समेत अन्य मांगों पर सरकार से पूरी करने का अनुरोध किया गया है। इधर बैतूल नगरपालिका में कर्मचारियों की हड़ताल पर जाने से हर शाखा में ताले लटके रहे। हालत यह रही कि एक फाईल भी इधर से उधर नहीं हुई।