प्रस्तावित मॉडल एक्ट के विरोध में उतरे मंडी कर्मचारी, 7 से करेंगे काम बंद

निज संवाददाता
खरगोन, 3 मई। मप्र शासन द्वारा लागू किए जाने वाले मॉडल एक्ट के विरोध में उतरे मंडी कर्मचारियों ने 7 मई से संयुक्त संघर्ष मोर्चा के आह्वान पर अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी दी है। इससे कृषि मंडी बंद रहेगी। मोर्चा में मंडी के अधिकारी, कर्मचारी, व्यापारी, हम्माल, तुलावटी शामिल हैं।
कर्मचारियों ने बुधवार को काली पट्टी बांधकर किया और शाम को जिले की खरगोन सहित करही, भीकनगांव, बड़वाह, सेगांव, झिरन्या, सनावद आदि मंडियों के सचिवों के नेतृत्व में करीब 300 से ज्यादा कर्मचारियों ने कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा। 2 से 6 मई तक काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। मोर्चा जिलाध्यक्ष दिलीप बार्चे, कमलेश तारे, राजेश वर्मा, भीमसिंग तोमर, सुनील रघुवंशी, धन्नालाल पाटीदार आदि ने बताया प्रदेश सरकार कृषि उपज मंडी अधिनियम 1972 बदलकर भारत सरकार द्वारा प्रस्तावित कृषक विरोधी, कर्मचारी विरोधी, मजदूर विरोधी, मध्यम वर्ग/ व्यवसायी विरोधी नवीन मॉडल एक्ट को अनुमोदित कर लागू करने की तैयारी कर रही है, जो गलत हैं। इस दौरान मंडी सचिव संजीव श्रीवास्तव, अनिल कुमार उजले, मंशाराम जमरे, रचना टिकेकर सहित बड़ी संख्या में मंडी निरीक्षक और कर्मचारी मौजूद थे।