शोषित पीडि़त मजदूरों की हितैषी है मुख्यमंत्री की योजना

रासिया,7 अप्रैल। प्रदेश के श्रम कल्याण मंडल के अध्यक्ष सुल्तान सिंह शेखावत आज कोयलांचल के दौरे पर आए। उन्होंने असंगठित मजदूरों के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की योजना को गरीब, असंगठित और शोषित मजदूरों की हितैषी बताया। इस योजना से जुडे कार्यक्रम को लेकर उन्होंने जानकारी दी। श्रम कल्याण मंडल के अध्यक्ष सुल्तान सिंह शेखावत ने आज पेंच कन्हान का दौरा किया। इस दौरे में उन्होंने पेंच कन्हान के बीएमएस के प्रतिनिधियों से चर्चा की। इस चर्चा में क्षेत्र की समस्याओं को जाना। उन्होंने हिंगलाज मंदिर के दर्शन भी किए। बीएमएस के प्रदेश मंत्री राकेश चतुर्वेदी और बीएमएस के पेंच कन्हान के अध्यक्ष संजय सिंह इस दौरान उनके साथ मौजूद थे।
सुल्तान सिंह शेखावत ने बताया कि असंगठित मजदूरों की पंजीयन सूची प्रकाशित करने सूची में नाम दुरुस्त करने एवं छूट गए असंगठित मजदूरों को शामिल करने को लेकर सोमवार 7 मई को सभी ग्राम पंचायतों में ग्राम सभा का आयोजन किया गया है। वहीं शहरी क्षेत्रों में वार्ड सभा आयोजित की गई है। सभा में सभी जनप्रतिनिधियों को शामिल होने के बारे में कहा गया है।
ढाई करोड मजदूरों का हुआ पंजीयन
वेकोलि के अतिथि गृह में सुल्तान सिंह शेखावत ने पत्रकार वार्ता में बताया कि प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शोषित पीडि़त एवं असंगठित मजदूरों की सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश में मजदूरों का पंजीयन कराया है। करीब ढ़ाई करोड़ मजदूरों का पंजीयन किया गया है। जिसमें 36 कैटेगरी के मजदूरों को शामिल किया गया है। वहीं ढाई एकड़ से कम भूमि को लेकर किसान को खेतिहर मजदूर माना गया है। शेखावत ने बताया कि ग्राम सभाओं में असंगठित मजदूरों से संबंधित प्रदेश सरकार के द्वारा जो योजना लागू की गई है। उसे बताया जाएगा। इन योजनाओं में गरीबों को गरीब मजदूर को 2 सौ रुपए प्रतिमाह विद्युत बिल का प्रावधान किया गया है।
ज्यादा बिल आने पर सरकार और कर्मकार मंडल बिल की राशि देगा। वही सभी गरीबों को प्रधानमंत्री आवास बनाकर देने की योजना है। जिन गरीबों के पास जमीन नहीं है सरकार उन्हें जमीन भी उपलब्ध कराएगी। इसी तरह पढ़ाई के लिए गरीबों को सरकार पहली से लेकर उच्च शिक्षा तक का सारा खर्चा वहन करेगी। अध्यक्ष ने यह भी बताया कि गर्भवती महिलाओं को 6 से 9 माह के भीतर 4 हजार एवं प्रसव होने पर 12 हजार की राशि दी जाएगी। मजदूरों की सामान्य मौत होने पर दो लाख एवं दुर्घटना में मौत होने पर चार लाख एवं अंतिम संस्कार के लिए निकाय 5 हजार की राशि उपलब्ध कराएगी। सुल्तान सिंह शेखावत ने पत्रकार वार्ता में यह भी जानकारी दी कि मजदूरों को कौशल प्रशिक्षण के लिए बैंकों से ऋण भी दिलाया जाएगा।