सामाजिक और आर्थिक मुद्दों पर हुई चर्चा

बैतूल, 5 जून। युवा आदिवासी विकास संगठन के तत्वावधान में अंबेडकर भवन प्रभात पट्टन में एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें सामाजिक और आर्थिक मुद्दों पर विचार विमर्श किया गया। संगठन के संस्थापक प्रदीप उईके ने कहा कि आज तक आदिवासी समाज का शोषण ही होता आ रहा है। अब यह चुनावी साल है हमें बहकावे में नही आना है जो हमारे हक और अधिकार के लिए लड़ेंगे और 5वींए 6वीं अनुसूची लागू करवाएंगे उनको ही नेतृत्व का मौका दिया जाएगा।
इस अवसर पर रामेश्वर परते ने कहा कि बैतूल आदिवासी जिला होने के बाद भी पट्टन में समाज के महापुरूषों के ना ही कोई चौक है और ना ही कोई स्टेच्यू विद्यमान है। उन्होंने कहा कि हमें 70 साल हो गए है कोई भी राजनीतिक पार्टियों ने सहयोग नही किया है। अब हम उनकों ही चुनेंगे जो हमारे हित में कार्य करेंगे। बैठक में कमलेश धुर्वे ने कहा कि समाज को प्रदेश लेवल तक जोडऩे के लिए हमे गांव.गावं जाकर युवाओं को समझाना पड़ेंगा। साथ ही व्यक्तित्व डेव्हलपमेंट की चिंता समाज को करनी पड़ेगी।
सूर्यभान कवड़े ने कहा कि समाज को एवं अपने अस्तित्व को बचाना है तो मनुवादियों की सोच से उठकर काम करना होंगा और संगठित होकर अपने हक और अधिकारों के लडऩा होंगा। बैठक में प्रमुख रूप से कृष्णा कुमरे, दिनेश धुर्वे, सुनील भलावी, अखलेश कुमरे, भारत कड़ोपे, संजय कवड़े, अक्षय गजामे, जयंत नवड़े, विनोद उईके, किशोर सरियाम, रूपेश धुर्वे, अभय गजामे, आयुष कवड़े, रामेश्वर परते, सूर्यभान कवड़े, कमलेश धुर्वे, मोहन परते, रवि कुमरे राजेश आठनेरे, अविनाश कुमरे, राजकुमार कुमरे, सुनील भलावी, सुखदेव कंगाली सहित सैंकड़ो युवा उपस्थित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदीप उईके एवं आभार व्यक्त अविनाश कुमरे ने किया।