चाय और पकौड़ा पार्टी

हाल ही में एक जिला कलेक्टर पद से तबादला होकर आए साहब ने मंत्रालय की पहली मंजिल पर अपना नया पदभार ग्रहण किया है। नए साहब चूंकि पहले राजधानी में ही पदस्थ थे, इसलिए उनसे मिलने उनके शुभचिंतक और स्टाफ के अन्य अधिकारी पहुंचे। एक अफसर कम दोस्त सरीखे साहब ने आईएएस महोदय के रूम में दस्तक दी तो देखा साहब चाय और पकौड़ों का लुत्फ उठा रहे हैं। दोस्त सरीखे अधिकारी से भी रहा नहीं गया। बोले, क्या साहब! लोग चाय और समोसे खाते हैं और आप भरी गर्मी में चाय और पकौड़ों का लुत्फ उठा रहे हो। साहब से भी नहीं रहा गया। नहले पर दहला मारते हुए बोले- जिस दौर में जी रहे हैं ना, वहां चाय के साथ समोसे नहीं, पकौड़े ही चलते हैं। पकौड़ों और चाय का इशारा समझ दोनों ठहाके मारकर हंसने लगे। … खबरची