स्वास्थ्य मंत्री ने मांगा अखिलेश यादव वाला सरकारी बंगला

लखनऊ, 20 जून। यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव के जिस बंगले को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ था, अब योगी सरकार के स्वास्थ्य मंत्री और प्रवक्ता सिद्धार्थनाथ सिंह ने उसी बंगले को लेने की इच्छा जताई है। 4, विक्रमादित्य मार्ग स्थित इस बंगले को अखिलेश यादव ने दो जून को खाली कर दिया था। वहीं, 8 जून की रात उन्होंने इसकी चाबी यूपी संपत्ति विभाग के हवाले की थी। मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने अब इस बंगले के आवंटन के लिए संपत्ति विभाग को एक खत लिखा है। इस खत में उन्होंने अपने वर्तमान बंगले में पर्याप्त जगह नहीं होने का हवाला देते हुए विक्रमादित्य मार्ग का बंगला आवंटित किए जाने की मांग की है। सिद्धार्थनाथ सिंह ने संपत्ति विभाग से यह भी कहा है कि उन्हें वर्तमान सरकारी आवास में असुविधा हो रही है, लिहाजा उन्हें 4, विक्रमादित्य मार्ग स्थित सरकारी बंगला अलॉट कर दिया जाए। 9 जून को जब अखिलेश यादव का 4, विक्रमादित्य मार्ग स्थित सरकारी बंगला मीडिया के लिए खोला गया तो अंदर का हाल देखकर सभी दंग रह गए। कभी आलीशान महल की तरह दिखने वाला यह बंगला अंदर से तहस-नहस मिला। एसी, स्विच बोर्ड, बल्ब और वायरिंग तक गायब मिले। स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, स्विमिंग पूल और लॉन उजड़े हुए हैं। सीढिय़ां तोड़ दी गई हैं। साइकल ट्रैक भी खोद दिया गया है।
बंगले में पहली मंजिल पर (जहां अखिलेश रहते थे) वहां बने सफेद संगमरमर के मंदिर के अलावा कोई हिस्सा ऐसा नहीं है, जहां तोडफ़ोड़ न की गई हो। अखिलेश यादव ने अपने मुख्यमंत्री रहते हुए 4, विक्रमादित्य मार्ग पर यह बंगला बनवाया था। इसे सजाने के लिए राज्य सम्पत्ति विभाग ने दो किस्तों में 42 करोड़ रुपये जारी किए थे। मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद वह इसमें रहने लगे थे। अखिलेश ने दो जून को ही बंगला खाली कर दिया था लेकिन कुछ सामान रखा होने की बात कहकर तब चाबी राज्य सम्पत्ति विभाग को नहीं सौंपी थी। बीते बुधवार को इस मामले में अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए यूपी सरकार पर पलटवार किया था। उन्होंने कहा कि उन्होंने बंगले में कोई तोड़-फोड़ नहीं कराई, न ही किसी तरह का नुकसान पहुंचाया है। पूर्व सीएम ने साथ ही राज्यपाल राम नाईक और सीएम योगी आदित्यनाथ पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि वह बंगले से वही चीजें निकालकर ले गए हैं जो उन्होंने खुद लगवाईं थीं। साथ ही कहा कि मीडिया में गलत तस्वीरें दिखाई गईं।