राहुल गांधी प्रधानमंत्री पद की दावेदार नहीं

रायपुर, (ब्यूरो)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अगले वर्ष होने वाले लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री पद की दावेदारी से पीछे हटने का लगभग साफ संकेत देते हुए कहा कि उनका मुख्य लक्ष्य मोदी एवं भाजपा को सत्ता में आने से रोकने का है। गांधी ने आज यहां वरिष्ठ पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस बारे में नम्बर आने पर चुनाव के बाद बात हो जाएगी। इसका खास मायने नही है और न ही इसको लेकर कोई समस्या है। उन्होंने यह भी विश्वास जताया कि भाजपा को अगर २०० से कम सीटें हासिल हुई तो मोदी को उनके सहयोगी दल ही प्रधानमंत्री के रूप में स्वीकार नही करेंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा के विजय रथ को वह गठबन्धनों के बूते पर रोकने में सफल रहेंगे। उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश एवं बिहार में बनने वाले गठबंधनों से मोदी को करारा झटका मिलने वाला है। उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश में बसपा सपा के गठबंधन में कांग्रेस भी शामिल होगी, इसके लिए बातचीत चल रही है। अगर तीनों दल मिलकर चुनाव लड़े तो मोदी को पांच सीटें भी उत्तरप्रदेश में नही मिल पाएंगी।
पिछले लोकसभा चुनाव में राज्य की ८० सीटों में से भाजपा एवं उसके सहयोगी दल ने ७३ सीटे जीती थी। कांग्रेस को केवल दो सीटे रायबरेली एवं अमेठी मिली थी। रायबरेली से श्रीमती सोनिया गांधी तो काफी अच्छे अन्तर से विजयी हुई थी, लेकिन राहुल को काफी जबर्दस्त चुनौती का अमेठी में सामना करना पड़ा था।