राजाओं के गढ़ को कांग्रेस से मुक्त करेंगे : प्रभात झा

हृदेश धारवार 9755990990
भोपाल,14 अगस्त। मध्यप्रदेश में चौथी बार सरकार बनाने और जनमत हासिल करने के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा जन आशीर्वाद यात्रा निकाली जा रही है। जन आशीर्वाद यात्रा के 9 चरण पूरे हो चुके हैं। 10 वें चरण की शुरूआत 16 अगस्त को कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ के गढ़ से होगी। यात्रा को सफल बनाने की महत्वपूर्र्ण जिम्मेदारी भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व राज्यसभा सांसद प्रभात झा के कंधों पर है। जहां-जहां यात्रा पहुंचने वाली होती है प्रभात झा दो दिन पहले वहां पहुंच जाते हैं और जमीनी स्तर पर तैयारी शुरू कर देते हैं। इसी का परिणाम हैै कि जनआशीर्वाद यात्रा हर जगह सफलता के परचम लहरा रही है। प्रभात झा ने जनआशीर्वाद यात्रा को लेकर राष्ट्रीय हिन्दी मेल से निम्म बिन्दुओं पर की विशेष चर्चा।
संवाददाता- जन आशीर्वाद यात्रा का उद्देश्य क्या है और उस उद्देश्य की पूर्ति कैसे करेंगे?
प्रभात झा- जन आशीर्वाद पहली बार नहीं निकाली जा रही है। जनआशीर्वाद यात्रा 2008 में भी निकाली गई थी और 2013 में भी। जनआशीर्वाद यात्रा का मुख्य उद्देश्य जनआशीर्वाद से जनादेश प्राप्त करना है। और यह काम वही व्यक्ति कर सकता है,वही पार्टी कर सकती है जिसने जनता के लिए काम किया है। जो काम नहीं करेगा जनता तो उसे कालिक पोत देगी। जनता के बीच जाकर यदि हमनें अच्छा काम किया है तो जतना हाथ उठाकर हमें आशीर्वाद देगी। जनतंत्र में जनआशीर्वाद, जन स्वर जो निकलता है वही जनादेश होता है। चुनाव के पहले जनता कहती है अबकी बार फिर शिवराज।
संवाददाता- पिछली दो बार की जनआशीर्वाद यात्रा और अबकी जनआशीर्वाद यात्रा में आप क्या फर्क देखते हैं?
प्रभात झा- मैं 2008 की जनआशीर्वाद यात्रा में था, 2013 में भी रहा,इस बार भी हूं। मैं यात्रा के दो दिन पहले जाकर तैयारी देखता हूं। मुझे जो दायित्व दिया जाता है मैं जुनून से उसमे लग जाता हूं। मैं पलटकर नहीं देखता,मैं राज्यसभा नहीं गया। एक दिन उपसभापति के लिए वोटिंग करने गया था। मुझे पार्टी जो काम देती हैं मैं उसमें डूब जाता हूं। यह यात्रा कैसे सफल हो,हमारे जन नायक को सफलता कैसे मिले इसके आगे मैं कुछ देखता ही नहीं। न मैं अपनी मर्यादा देखता हूं,न मैं अपनी इज्जत देखता हूं,न मैं कुछ देखता हूं। मेरी कोई दज्जत नहीं है,पार्टी की इज्जत ही मेरी इज्जत है।
संवाददाता- कांग्रेस का आरोप है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सभा में पैसे देकर भीड़ जुटाई जा रही है?
प्रभात झा- क्या कमलनाथ जी से कोई कम पैसे वाला है? कमलनाथ जी क्या कमजोर पैसे वाले हैं? अगर पैसे से भीड़ आती तो कमलनाथ की सभा में सबसे ज्यादा भीड़ आती। मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा में लोग प्यार से आते हैं पैसे से नहीं।
संवाददाता- अबकी बार 200 पार का लक्ष्य कैसे पूरा करेंगे,इसका आधार क्या है? प्रभात झा- देखिए सीधा-सीधा गणित है,पिछले दो दिन से हम राजा महाराजा के राधोगढ़ और राजगढ़ में यात्रा करके आए हैं। वहां भी हम राजा को मात देकर आए हैं। जनता ऊब चुकी है और सबसे कहा कि राजा महाराजा के क्षेत्र को इस बार कांग्रेस मुक्त करना है। आजादी के दो दिन पहले हम लोग यह आग्रह करके आए हैं। मुख्यमंत्री ने भी कहा कि इस बार राजा-महाराजा से मुक्ति दिलाईये। मैं विकास की गारंटी लेता हूं।
संवाददाता- जमीनी स्तर पर जनता और पार्टी के कार्यकर्ताओं में मौजूदा जनप्रतिनिधियों के खिलाफ एंटी इंकमबेंसी का माहौल हैं। उससे कैसे दूर करेंगे?
प्रभात झा- यह पार्टी देखती है,अगर कोई जीतने वाला नहीं होगा तो पार्टी उसे टिकट नहीं देगी। हर जीतने वाले को टिकट दिया जाएगा। एंटी इंकबेंसी दूर-दूर तक नहीं है। लोग उत्साह से सड़क पर आ रहे हैं। लाड़ली लक्ष्मी योजना की बेटी अब बड़ी हो गई है। साईकिल, गणवेश, मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के हितग्राही सब स्वागत में आगे आते हैं,युवा,बेटिया,महिलाएं सब स्वागत करने आते हैं। हर गरीब के जीवन में बदलाव आया है। बहन-बेटियों के गर्भ धारण करते समय 16 हजार रूपए की मदद भाजपा की सरकार ने की है। इसके अलावा संबल योजना के तहत पंजीकृत श्रमिकों की दुर्घटना में मौत होने पर 4 लाख रूपए की मदद, सामान्य मौत पर 2 लाख रूपए दिए जाते हैं। आजतक देश की किसी भी सरकार ने ऐसा नहीं किया। इन्हीं योजनाओं की वजह से शिवराज सिंह चौहान की स्वीकार्यता बढ़ी है। स्वीकार्यता का नाम ही शिवराज सिंह चौहान है।
संवाददाता- जयस,अजाक्स और सपाक्स की सक्रियता के साथ मध्यप्रदेश में बढ़ रहे जाति वर्ग संघर्ष को आप किस रूप में देखते है?
प्रभात झा- मध्यप्रदेश में जातिवाद नहीं है,मध्यप्रदेश जातिवाद से ऊपर उठ चुका है। जब उत्तरप्रदेश में भाजपा ने जातिवाद समाप्त कर दिया एक सीट नहीं आई आई बसपा की,सपा के परिवार की एक दो सीट आई हैं। मध्यप्रदेश को एक आदर्श राज्य के रूप में प्रस्तुत करने काम किया जा रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के नेतृत्व में समृद्धशाली मध्यप्रदेश बनाने के लिए काम कर रहे हैं।