तीनों राज्यों में लड़ेंगे विस का चुनाव : रघु ठाकुर

मुलाकात
राष्ट्रीय हिन्दी मेल टीम
रायपुर, 10 सितंबर। लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के संरक्षक रघु ठाकुर ने आज विशेष मुलाकात में दो-टूक शब्दों में कहा कि भाजपा के विरोध में एक बड़ा मोर्चा बने, ऐसा प्रयास तो है पर विपक्ष के पास कोइ प्रभावशाली चेहरा नहीं है। कुछ दलों ने कांग्रेस के सामने समर्पण कर दिया है, जो ठीक नहीं है। हम समझौते के पक्ष में हैं, समर्थन के नहीं।
उन्होंने कहा कि सरकार बाजार में दामों को खुला छोड़कर जनता और किसानों के साथ धोखा कर रही है। सरकार महंगाई पर नियंत्रण लगाने की बजाय रोजमर्रा की चीजों पर दाम बढ़ा रही है। कल महंगाई और पेटोल-डीजल के दामों के विरोध में भारत बंद है जिसे हमारा समर्थन है। केंद्र मोर्चे पर विफल रही है, अब ऐसा कोई नेता नहीं है, जो देश का विश्वासपात्र हो, उन्होंने डॉ. रमन सिंह की व्यक्तिगत तौर पर तारीफ की और कहा की फौरी तौर पर राहत तो दिए हैं पर स्थाई लाभ जनता को हो, ऐसी कोई उपलब्धि नहीं है। निश्चित ही बेहतर नेता हैं पर उनकी शराब नीति ठीक नहीं है, हमारी उनसे मांग है कि अक्टूबर से राज्य में शराब बंद कर दी जाए। श्री ठाकुर ने राष्ट्रीय हिन्दी मेल से चर्चा करते हुए साफ-साफ कहा कि आज देश को एक महागठबंधन की जरूरत है, जो जनता के हित में काम कर सके पर यहां तो विपक्ष के पास कोइ सर्वमान्य चेहरा ही नहीं है, हम भी चुनाव लड़ेंगे पर समर्पण करके नहीं। अगर समझौता होता है तो ठीक नहीं, तो हम अकेले तीनों राज्यों मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में चुनाव लड़ेंगे। कितने सीटों पर लड़ेंगे यह तो अभी नहीं कह सकते पर चुनाव जीत सकने वाली सीटों पर चुनाव लड़ेंगे। कुछ ऐसा दल जो कांग्रेस पार्टी के सामने समर्पण कर दिया है, जबकि समझौते के आधार पर महागठबंधन बनना चाहिए। सोमवार के भारत बंद का समर्थन करते हुए उन्होंने कहा कि भारत की विदेश नीति ठीक नहीं है, अमेरिका के विदेश और रक्षा मंत्री से यहां के विदेश और रक्षा मंत्री मिले पर ईरान से कच्चे तेल के आयात पर कोइ चर्चा तक नहीं की क्यों? जबकि भारत में तेल के दाम रोज बढ़ रहे हैं, ईरान से आने वाली तेलों में भारत को रियायत मिलनी चाहिए। अमेरिका ने ईरान पर प्रतिबन्ध लगा रखे हैं, भारत ने नहीं। महंगाई आसमान पर है, इसके लिए सरकार जिम्मेदार है, उन्होंने कहा सरकार ने संसद में खुद माना है कि कारखाने में बनने वाली एक रुपए की दवा बाजार में 15 सौ रुपए तक की बिक रही है, इसी प्रकार कारखाने में बनने वाला अन्य सामान की भी कीमत पर सरकार का नियंत्रण नहीं है, यह कैसी दाम बांधो नीति है। उन्होंने कहा दाम बांधो नीति का सिद्धांत हमारे समाजवादी नेता डॉ. राम मनोहर लोहिया ने दिया था। इस सिद्धांत के माध्यम से उद्योगों में बनने वाले सामान पर 50 फीसदी का मुनाफा जोड़कर वह बाजारों में बिकने का नियम एवं इसी प्रकार किसान को अपनी लागत मूल्य का डेढ़ गुना मुनाफा, जिसमें किसान की मजदूरी को भी शामिल किया गया था। रघु ठाकुर ने कहा कि यदि किसान के दाम बांध दिए जाते हैं और बाजार को खुला छोड़ दिया जाता है तो यह सरकार की दोहरी नीति है। इससे किसानों का नुकसान होगा। लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी इस नुकसान को बर्दाश्त नहीं करेगी। यदि दाम बांधो नीति लागू करना है तो पहले कारखानों पर नीति लागू करें, उसके बाद हम किसानों को नहीं लुटने देंगे।
देश पहले या सत्ता
एससी-एसटी एक्ट पर चर्चा करते हुए रघु ठाकुर ने कहा यह मुद्दा अब सत्ता हासिल करने का खेल बन गया है। पार्टियां अपनी राजनीतिक लाभ के लिए इनका विरोध या समर्थन कर रहे हैं। सरकार भी अपना कदम पीछे खींच लिए हैं। अब लोगों को सोचना होगा कि देश पहले है या सत्ता।
अक्टूबर से हो शराबबंदी
लोसपा के संरक्षक रघु ठाकुर का कहना है कि शराब मामले में राज्य सरकार की नीति ठीक नहीं है। अब सरकार खुद शराब बेचने लगी है यह और हास्यास्पद है। क्योंकि इसके दुष्प्रभाव ज्यादा है। उन्होंने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह से मांग की है कि राज्य में अक्टूबर माह से पूरी तरह से शराबबंदी लागू करें। वैसे डॉ. रमन सिंह के कामकाज फौरी तौर पर बहुत अच्छे हैं, पर स्थायी रुप से उनके पास कोई उपलब्धि नहीं है। उनके चेहरे पर शहीदों के दाग लगे हुए हैं। व्यक्तिगत तौर पर डॉ. रमन सिंह एक बेहतर मुख्यमंत्री हैं, पर उन्हें राज्य की जनता के हित में अभी और बहुत कुछ करना है।