बिजली घर सारणी और चचाई में लगेगी 660-660 मेगावाट की इकाई

विशेष संवाददाता
भोपाल, 13 सितम्बर। मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी लिमिटेड की 97वीं बीओडी (बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स) की महत्वपूर्ण बैठक बुधवार को संपन्न हुई। जिसमें बिजली उत्पादन बढ़ाने की दिशा में एक बड़ा निर्णय सर्वसम्मति से लिया गया। बैठक में सतपुड़ा बिजली घर सारणी और अमरकंटक ताप विद्युत गृह चचाई में 660-660 मेगावाट की एक-एक सुपर क्रिटिकल इकाई स्थापित करने के प्रस्ताव पर मुहर लग गई है।
बताया जा रहा है कि बुधवार को मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के बीओडी की बैठक में सारणी और चचाई प्लांट में सुपर क्रिटिकल तकनीक पर आधारित एक-एक इकाई स्थापित करने का निर्णय लिया गया है। जिसमें प्रत्येक विद्युत इकाई की अनुमानित लागत 4500 करोड़ रूपए है। बीओडी की बैठक प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं मध्यप्रदेश पावर जनरेटिंग कंपनी के अध्यक्ष आईसीपी केशरी की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें 660 मेगावाट क्षमता की एक इकाई अमरकंटक ताप विद्युत ग्रह क्रमांक 1 व 2 की सेवानिवृत्त इकाइयों के स्थान पर तथा 660 मेगावाट की एक इकाई बिजली घर सारणी के परिसर में स्थापित करने की स्वीकृति प्रदान की गई है। प्रमुख सचिव ऊर्जा आईसीपी केशरी ने कहा कि दोनों ताप विद्युत गृहों में सुपर क्रिटिकल तकनीक पर आधारित विद्युत इकाई स्थापित होने से बढ़ती हुई विद्युत की मांग को पूर्ण करने में योगदान होगा। केशरी ने कहा कि इन इकाइयों की स्थापना हेतु आवश्यक वैधानिक एवं अन्य प्रक्रिया जैसे पर्यावरणीय स्वीकृति, कोयला एवं पानी का आवंटन प्राप्त करने हेतु आवश्यक कार्रवाई की जाए, ताकि इकाइयों की स्थापना समय-सीमा में की जा सके।