अब प्रदेश को प्रति वर्ष मिलेंगे 2600 डॉक्टर : शिवराज

रतलाम, 13 सितम्बर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज रतलाम में कहा कि ग्रामीण अंचलों में पर्याप्त संख्या में डॉक्टर उपलब्ध करवाये जाएंगे। प्रदेश में मेडिकल कॉलेज की संख्या निरंतर बढ़ाई जा रही है। पहले प्रति वर्ष 600 डॉक्टर प्रदेश में तैयार होते थे। अब प्रदेश को 2600 डॉक्टर प्रति वर्ष मिलेंगे। उन्होंने रतलाम में मेडिकल कॉलेज सहित 400 करोड़ से भी ज्यादा लागत के निर्माण कार्यों का लोकार्पण और भूमि-पूजन करते हुए यह जानकारी दी। चौहान ने घोषणा की कि प्रदेश की मेधावी विद्यार्थी प्रोत्साहन योजना का लाभ रतलाम मेडिकल कॉलेज के विद्यार्थियों को भी दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने मेडिकल कॉलेज परिसर में मां सरस्वती की प्रतिमा का पूजन-अर्चन भी किया। चौहान ने बताया कि रतलाम मेडिकल कॉलेज में अत्याधुनिक चिकित्सा उपकरण उपलब्ध करवाये गए हैं। मेडिकल कॉलेज में 750 बिस्तरीय अस्पताल का निर्माण किया गया है, जहां गंभीर बीमारियों के उपचार की समुचित व्यवस्था मुहैया करवाई जाएगी। उन्होंने मेडिकल कॉलेज के प्रथम बैच के विद्यार्थियों को बधाई देते हुए कहा कि रतलाम मेडिकल कॉलेज का अस्पताल निश्चित ही उज्जैन संभाग का सर्वश्रेष्ठ अस्पताल होगा। चौहान ने विद्यार्थियों को उच्च शिक्षा के लिए राज्य सरकार द्वारा मुहैया करवाई जा रही आर्थिक सहायता की योजनाओं के बारे में भी बताया। मुख्यमंत्री को विधायक चैतन्य काश्यप ने स्वर्णाक्षरों से रचित अभिनंदन-पत्र भेंट किया। स्थानीय उद्योग संघ, लघु उद्योग भारती, वैश्य महा-सम्मेलन, नमकीन व्यापारी संघ, इण्डियन मेडिकल एसोसिएशन सहित करीब 25 स्वयंसेवी संस्थाओं और संगठनों ने मुख्यमंत्री का अभिनंदन किया। इस मौके पर राज्य योजना आयोग के उपाध्यक्ष एवं विधायक चैतन्य काश्यप, राज्य वित्त आयोग के अध्यक्ष हिम्मत कोठारी, राज्य कृषि आयोग के अध्यक्ष ईश्वरलाल पाटीदार, विधायक मथुरालाल डामर, डॉ. राजेन्द्र पाण्डे, जीतेन्द्र गहलोत, श्रीमती संगीता चारेल, महापौर डॉ. सुनीता यार्दे, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रमेश मइड़ा, जिला सहकारी बैंक के अध्यक्ष अशोक चौटाला, आयुक्त चिकित्सा शिक्षा शिवशेखर शुक्ला सहित अन्य जन-प्रतिनिधि और गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।