‘समृद्ध मध्यप्रदेश के प्रति जनता में जबर्दस्त उत्साह

भोपाल, 23 अक्टूबर। समृद्ध मध्यप्रदेश अभियान के प्रति प्रदेश की जनता पूरे उत्साह के साथ भागीदारी कर रही है। प्रदेश की जनता पूरी सक्रियता के साथ प्रदेश को विकास और समृद्धि के रास्ते पर ले जाने वाले इस अभियान से जुडऩा चाह रही है। यही वजह है कि अभियान के पहले ही दिन लोगों ने 4064 सुझाव भेजे हैं। किसी ने इसके लिए फोन लगाया, तो किसी ने व्हाट्सएप या वेबसाइट पर अपना संदेश देकर सुझाव दर्ज कराया। यह बात सोमवार को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने पत्रकार वार्ता में कही। उन्होंने कहा कि प्रदेश के अधिकतर विधानसभा क्षेत्रों में इस अभियान के लिए प्रदेश कार्यालय से रवाना किए गए डिजिटल रथों ने काम करना शुरू कर दिया है।
प्रदेश की समृद्धि का रास्ता बताएगा यह अभियान
पत्रकारों से चर्चा करते हुए विजयवर्गीय ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार को जो मध्यप्रदेश मिला था, वह एक बीमारू प्रदेश था। इसे शिवराज सिंह जी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार ने विकसित मध्यप्रदेश बनाया। अब सरकार इसे समृद्ध मध्यप्रदेश बनाने के प्रयास कर रही है। विजयवर्गीय ने कहा कि सामान्य तौर पर मतदान करने के बाद प्रजातंत्र में मतदाता की भूमिका समाप्त हो जाती है, सरकार के संचालन में उसकी प्रत्यक्ष भूमिका नहीं होती, लेकिन समृद्ध मध्यप्रदेश अभियान के जरिए मध्यप्रदेश के मतदाताओं को भविष्य की सरकार के संचालन में भागीदारी का अवसर मिल रहा है। इस अभियान के माध्यम से प्रदेश के करोड़ों लोग यह बताएंगे कि अगली सरकार से प्रदेश के विकास और समृद्धि के लिए उनकी क्या अपेक्षाएं होंगी। विजयवर्गीय ने बताया कि प्रदेश के सभी क्षेत्रों में लोग उत्साहपूर्वक इस अभियान में भागीदारी कर रहे हैं। अभियान के पहले ही दिन विभिन्न क्षेत्रों से करीब 13058 फोन कॉल आए। इसके अलावा व्हाट्सएप पर 4064 तथा वेबसाइट पर 617 मैसेज मिले। समृद्ध मध्यप्रदेश प्रतियोगिता में 1022 लोगों ने भागीदारी की एवं समृद्ध मध्यप्रदेश एंबेसडर नेटवर्क पर 1944 लोगों ने संपर्क किया। इस अवधि में वेबसाइट पर कुल 60031 यूजर्स आए।
कांग्रेस द्वारा आचार संहिता का उल्लंघन बताना दुखद: राष्ट्रीय महासचिव विजयवर्गीय ने कहा कि कांग्रेस द्वारा ‘समृद्ध मध्यप्रदेशÓ अभियान को आचार संहिता का उल्लंघन बताते हुए निर्वाचन आयोग से इसकी शिकायत की गई है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी निर्वाचन आयोग का पूरा सम्मान करती है। विजयवर्गीय ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि वर्ष 2003 में कांग्रेस शासन के समय प्रदेश की स्थिति क्या थी, यह बात प्रदेश के हर व्यक्ति को पता है। आज प्रदेश में सरप्लस बिजली है, गांव-गांव तक अच्छी सड़कें हैं।
प्रति व्यक्ति आय बढ़कर 80,000 रुपए तक पहुंच गई है। ऐसे में अगर प्रदेश के लोगों से प्रदेश को विकास के रास्ते पर और आगे ले जाने के, प्रदेश को समृद्ध बनाने के लिए सुझाव मांगे जा रहे हैं, तो इसमें क्या बुराई है। विजयवर्गीय ने कांग्रेस द्वारा इस संबंध में निर्वाचन आयोग से शिकायत किए जाने को दुखद बताया।