संतों ने शिवराज को मुख्यमंत्री बने रहने का दिया आशीर्वाद

भोपाल, 23 अक्टूबर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संत समाज से सद्बुद्धि बनाए रखने, सन्मार्ग पर चलने और प्रदेश के विकास करने का सामथ्र्य प्रदान करने का आशीर्वाद मांगा। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि उनका जीवन प्रदेश के लोगों के सेवा के लिए समर्पित है। प्रदेश के लोगों के कहने पर ही कई योजनाएं शुरू की गई हैं। उन्होंने यह भी कहा कि आने वाली दीवाली पर कोई भी घर बिना रोशनी के नहीं रहेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा है कि भारत देश और आदि शंकराचार्य का दर्शन ही विश्व को रास्ता दिखाएगा। मुख्यमंत्री आज यहां हिन्दी भवन में आयोजित संत सभा को संबोधित कर रहे थे। संत सभा का आयोजन राजाभोज एकल अभियान समिति, भोपाल द्वारा किया गया था। इसमें देश के विभिन्न राज्यों से विभिन्न संप्रदायों के संत मुख्यमंत्री को आशीर्वाद देने पधारे। सभी संतों ने मुख्यमंत्री के धार्मिक और आध्यात्मिक चेतना लाने वाले कार्यक्रमों की शुरूआत करने की प्रशंसा करते हुए उन्हें आगे भी मुख्यमंत्री के रूप में बने रहने का आशीर्वाद दिया।
संतों ने पुजारियों का वेतन बढ़ाने, तीर्थ दर्शन चलाने, एकात्म यात्रा निकालने, नर्मदा सेवा यात्रा निकालने, गौ मंत्रालय की घोषणा करने, पवित्र शहरों को आध्यात्मिक शहरों का दर्जा देने, धर्मांतरण की प्रक्रिया रोकने, गौ वंश वध पर प्रतिबद्ध लगाने जैसे कार्यों की भरपूर प्रशंसा की और उन्हें आशीर्वाद दिया। संत समाज ने ईश्वर से प्रार्थना की कि वे मुख्यमंत्री की भूमिका में अपने कामों को आगे बढ़ाएं। इस अवसर पर अखिलेश्वरानंद जी, महामंडलेश्वर परमानंद गिरी जी महाराज, गायत्री परिवार से ओ.पी. शर्मा, गिरीशानंद सरस्वती, स्वामी मुक्तानंद महाराज, महामंडलेश्वर हरिहरानंद सरस्वती, नर्मदानंद महाराजा, स्वामी उमेशनाथ जी महाराज, प्रणवानंद सरस्वती महाराज, सीताशरण जी महाराज, महामंडलेश्वर विश्वेश्वरानंद जी महाराज, महामंडलेश्वर राजीवलोचन महाराज, गणेशानंद जी महाराज और विभिन्न संप्रदायों के संत समाज उपस्थित थे।