कांग्रेस को भुगतना होगा दिग्विजय के महापापों का खामियाजा: शिवराज

त्यौंथर/रीवा, 24 अक्टूबर। दिग्विजय सिंह के शासन के दौरान प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था ध्वस्त हो गई थी। प्रदेश में अंधेरा छाया था और बिजली गायब थी। किसानों की फसल सूख रही थी, लेकिन सिंचाई के लिए पानी नहीं था। दिग्विजय सिंह की सरकार ने प्रदेश में कई महापाप किए हैं और कांग्रेस को इन महापापों का खामियाजा भुगतना होगा। यह बात मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने रीवा जिले के त्यौंथर एवं सिरमौर में जनआशीर्वाद यात्रा के अंतर्गत आयोजित सभाओं को संबोधित करते हुए कही। उनके साथ मंच पर सांसद जनार्दन मिश्रा, मंत्री राजेंद्र शुक्ला और स्थानीय विधायक रमाकांत तिवारी तथा अन्य नेता मौजूद थे।
मुख्यमंत्री चौहान की जनआशीर्वाद यात्रा मंगलवार को रीवा जिले के विधानसभा क्षेत्रों में पहुंची। यात्रा की शुरुआत त्यौंथर विधानसभा क्षेत्र से हुई। मुख्यमंत्री हेलीकॉप्टर से सुबह 11 बजे त्यौंथर पहुंचे। हेलीपैड पर स्थानीय नेताओं द्वारा स्वागत के बाद मुख्यमंत्री सभास्थल के लिए रवाना हुए। इस दौरान मुख्यमंत्री का उत्साहपूर्वक स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री ने यहां विशाल आमसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस की सरकार ने प्रदेश को बीमारू राज्य बना दिया था। इन बुरे हालातों में भाजपा की सरकार आई और हमने पहले इस बीमारू राज्य को विकसित राज्य बनाया, अब समृद्ध बनाने की ओर आगे बढ़ रहे हैं।
रीवा को पंजाब की तरह उपजाऊ बनाएंगे
सभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि फसल उत्पादन के मामले में रीवा जिला काफी बेहतर है। यहां का गेहूं पूरे प्रदेश में जाता है, देश के लोग भी खाते हैं। यहां चना भी काफी मात्रा में होता है। यहां की पैदावार को देखते हुए हम इस जिले को पंजाब की पैटर्न पर आगे ले जाएंगे और पंजाब की ही तरह उपजाऊ बनाएंगे। वहीं, सिरमौर में मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को उनकी फसल का उचित दाम दिलाया जाएगा, ताकि उन्हें अधिक पैदावार लेने में किसी तरह की परेशानी नहीं हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के समय में किसानों को 18 फीसदी ब्याज पर कर्ज मिलता था, लेकिन हमारी सरकार आने पर ब्याज दर को जीरो कर दिया। उन्होंने कहा गेहूं का भाव हमने 2000 रूपए प्रति क्विंटल दिलाया और चने का भाव 1750 रुपए क्विंटल दिलाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों को किसी भी स्थिति में हम परेशान नहीं होने देंगे।
कांग्रेस ने बातें कीं, हम दिलाएंगे जिले को बाणसागर का पानी:मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के समय में फसलों के सिंचाई के लिए पानी नहीं मिलता था। कुल 7.5 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती थी। हमने सिंचाई के रकबे को बढ़ाकर 40 लाख हेक्टेयर तक पहुंचाया। उन्होंने कहा कि अब हम इसे 80 लाख हेक्टेयर तक पहुंचाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाणसागर बांध के बारे में कांग्रेस ने हमेशा बातें ही की हैं, काम कभी नहीं किया। भाजपा ने इसके लिए वादा किया था। इस पर काम करते हुए हमने 25 दिसंबर को पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर इसका शिलान्यास कर दिया। इस बांध के पूरा होते ही यहां का पानी पूरे रीवा जिले को दिलाया जाएगा।
संबल योजना से शुरू हुआ गरीबी हटाने का अभियान: मुख्यमंत्री चौहान ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस सालों से गरीबी हटाओ का नारा देती रही है। पहले इंदिरा जी, फिर राजीव जी और अब राहुल गांधी यही कहते रहते हैं कि हम गरीबी हटाएंगे। लेकिन इनमें से कोई भी गरीबी नहीं हटा पाया, उल्टे गरीबों को ही हटा दिया है। मैं कहता हूं हम हटाएंगे गरीबी। हमने प्रदेश से गरीबी हटाने का अभियान संबल योजना से शुरू कर दिया है। इस योजना में बिना किसी भेदभाव के हर वर्ग के लोगों को सहूलियतें दी जा रही हैं। हम इसी योजना के माध्यम से प्रदेश से गरीबी हटाएंगे।
सिरमौर से सिमरिया के रास्ते में जगह-जगह हुआ स्वागत: मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हेलीकॉप्टर से त्यौंथर पहुंचे थे और हेलीकॉप्टर से ही सिरमौर रवाना हो गए थे। इसलिए रास्ते में आने वाले गांवों के लोगों को मुख्यमंत्री के स्वागत का अवसर नहीं मिल सका था। सिरमौर से मुख्यमंत्री अपने रथ पर सवार होकर सिमरिया के लिए रवाना हुए। इस दौरान जगह-जगह मुख्यमंत्री का स्वागत किया गया। करीब दर्जन भर स्थानों पर मुख्यमंत्री को रोककर स्थानीय लोगों ने उनका स्वागत किया। कई जगहों पर मुख्यमंत्री के रथ पर पुष्प वर्षा की गई और कई जगह लोगों ने मुख्यमंत्री को फूल-माला, श्रीफल आदि भेंट किए। रास्ते में पडऩे वाले हरदुआ, बसामन और चचाई में मुख्यमंत्री ने अपने रथ से ही लोगों को संबोधित किया।
छुट्टियों के बारे में स्थिति स्पष्ट करे आयोग, भाजपा ने लिखा पत्र: भारतीय जनता पार्टी ने निर्वाचन आयोग आयोग से आगामी दीपावली एवं भाईदूज आदि अवकाशों के दौरान निर्वाचन संबंधी काम को लेकर स्थिति स्पष्ट करने की मांग की है। इस संबंध में पार्टी की निर्वाचन आयोग संबंधी समिति के प्रदेश संयोजक शांतिलाल लोढ़ा ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को पत्र लिखा है। निर्वाचन आयोग संबंधी समिति के संयोजक शांतिलाल लोढ़ा ने अपने पत्र में लिखा है कि विधानसभा चुनाव हेतु निर्वाचन अधिसूचना 2 नवंबर को घोषित होगी। इसी बीच दीपावली महोत्सव होने से स्थानीय अवकाश के कारण प्रत्याशी भ्रमित न हों, इसलिए आयोग इस संबंध में स्पष्ट रूप से आदेश जारी करे, तो उपयुक्त होगा। लोढ़ा ने कहा है कि 7 नवंबर दीपावली छोड़कर शेष दिनों में चुनाव के लिए नामांकन प्रस्तुत किए जा सकेंगे और संबंधित आरओ एवं एआरओ अपने-अपने कक्ष में नामांकन पत्र लेने हेतु मौजूद रहेंगे। इस संबंध में आयोग अगर स्पष्ट आदेश जारी कर दे, तो उपयुक्त होगा क्योंकि 8 नवंबर को गोवर्धन पूजा एवं 9 नवंबर को भाईदूज होने से कई स्थानों पर स्थानीय अवकाश रहता है, जिससे प्रत्याशी भ्रमित हो सकते हैं।