फुटपाट पर दुकान लगाने वालों को नहीं मिल रहीं सुविधाएं

सिलवानी, 25 अक्टूबर। फुटपाट पर दुकान लगा कर परिवार की अजीविका चलाने वाले दुकानदारों को स्थानीय प्रशासन के द्वारा सुविधाएं मुहैया नही कराई जा रही हैं। जबकि सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने की नैतिक जबावदेही जनता के द्वारा चुनी गई नगर सरकार की होती हैं।
बावजूद भी नगर की निर्वाचित सरकार के नुमाईदे सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने में लापरवाह हो रहे है। नगर में गांधी चौराहा, बजरंग चौराहा, पुलिया के पास आदि स्थानों पर सड़क किनारे सब्जी, चाट, फल आदि सामग्री विक्रय किए जाने के लिए प्रत्येक दिन 50 के लगभग दुकाने फुटपाट पर लगाई जाती है। इन दुकानों से प्रत्येंक दिन टेक्स के रुप में नगर परिषद कें द्वारा प्रति दुकान से 20 रुपए की राशि वसूली जा रही है। लेकिन सुविधाओं के नाम पर निरंक जैसी स्थिति वनी हुई है। दुकानदारों को किसी भी प्रकार की सुविधा नही उपलब्ध कराई जा रही है।
फुटपाट भी नही है इनका:- दुकान लगाने वाले दुकानदारों का यह भी पक्का नही होता कि कव उन्हे यहां से बहां कर दिया जावे। अकसर ही बजरंग चौराहा तथा गांधी चौक पर आयोजित होने वाले कार्यक्रर्मो के दौरान दुकानदारों को हटा दिया जाता है। फुटपाट पर दुकान लगाने वालों के द्वारा प्रति दिन नगर परिषद को टेक्स के रुप में राशि दी जाती हैं। लेकिन राशि दिए जाने के बावजूद भी सब्जी की दुकान लगाने वाले दुकानदारों को सुविधा मुहैया नही हो पा रही हैं।
हाट बाजार को लगती है 200 दुकाने:-प्रत्येक बुधवार को साप्ताहिक हाट बाजार में दो सौ के लगभग दुकाने लगाई जाती है। इन दुकानों में कपड़ा, किराना, सब्जी, फल,अनाज आदि की दुकाने शामिल होती है। प्रत्येक दुकानदार से 20 रुपए की राशि टेक्स के रुप में नगर परिषद के द्वारा ली जाती है। इस तरह प्रत्येक वर्ष फुटपाट तथा हाट वाजार में दुकान लगाने वाले दुकानदारों से लाखों ंरुपए की राशि नगर सरकार के पास एकत्रित हो जाती है। लेकिन इस राशि का उपयोग अभी तक दुकानदारों के पक्ष में सुविधाओं के लिए नही किया जा सका है।