फरियादी ही निकला लूट का मास्टर माइंड

राष्ट्रीय हिन्दी मेल नेटवर्क
विदिशा, २५ अक्टूबर। बुधवार को कोतवाली पुलिस ने एक लूट की घटना पर्दाफाश किया। खास बात यह रही कि करीब 20 दिन पहले हुई इस वारदात का आरोपी खुद फरियादी ही निकला। लूट के पैसे हजम करने के लिए खुद ने ही पूरी कहानी गढ़ी थी।
3 अक्टूबर की दोपहर शहर के व्यस्ततम मार्ग पर कोतवाली से 50 कदम की दूरी पर स्थित एसबीआई बैंक के ठीक सामने एक युवक ने दो अन्य युवकों द्वारा आंखों में मिर्ची डालकर उसके पास रखे 40 हजार रूपए छीनकर भागने की घटना बताई थी। नीमताल स्थित घनश्याम बंसल की मेडिकल स्टोर के कर्मचारी गौरव प्रजापति उम्र 22 साल निवासी ग्राम ढोलखेड़ी द्वारा दोपहर पौने चार बजे के लगभग एसबीआई बैंक में पैसे जमा करने आए थे। बैंक में ऊपर चढऩे से पहले दो नकाबपोश युवकों द्वारा उनकी आंखों में कुछ डालकर रूपए छीनकर भागने की जानकारी घनश्याम बंसल को फोन पर दी। घनश्याम बंसल अपने परिजन मनमोहन बंसल के साथ कोतवाली पहुंचे। जहां पूरे मामले की जानकारी दी। कोतवाली पुलिस द्वारा तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर घटनास्थल का निरीक्षण किया।
मामले का खुलासा करते हुए बुधवार को कोतवाली टीआई आरएन शर्मा ने बताया कि आसपास के लोगों से पूछताछ की गई और शहर में लगे सीसीटीवी कैमरों की मदद से अज्ञात आरोपियों की खोजबीन के हर संभव प्रयास किए गए। विवेचना के दौरान स्वयं फरियादी गौरव प्रजापति की गतिविधियां संदिग्ध होने पर उससे सघन पूछताछ की गई। विवेचना के फलस्वरूप यह स्पष्ट हुआ की स्वयं गौरव प्रजापति द्वारा घनश्याम बंसल के रुपए बैंक में जमा न करते हुए अपने पास रख लिए और पुलिस को गुमराह करते हुए झूठी रिपोर्ट लूट करने की थाने पर लिखा दी। कोतवाली पुलिस द्वारा इस घटना का पर्दाफाश करते हुए गौरव प्रजापति को गिरफ्तार किया और घनश्याम बंसल के रुपए बरामद किए गए।
000