ना जाति पर ना धर्म पर, वोट देना कर्म पर, खून से लिखी अपील

बैतूल, 25 अक्टूबर। जिला चिकित्साल प्रांगण में बुधवार दोपहर 12 बजे मां शारदा सहायता समित द्वारा महर्षि वाल्मिकि जयंती के अवसर पर जयंती एवं मतदाता जागरूकता का अभिनव कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में महिलाओं एवं पुरूषो की उपस्थिति में महर्षि वाल्मिकी को श्रद्धा सुमन अर्पित किए गए। इस दौरान महर्षि वाल्मिकी के जीवन पर भीम धोटे एवं विकास मिश्रा ने अपने विचार व्यक्त किए।
इस अवसर पर नितिन अग्रवाल ने महर्षि वाल्मिकि के डाकू से संत बनने की सच्ची घटना का वृतांत सुनाया। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पिंकी भाटिया, दीप मालवीय, ने मतदाता जागरूकता अभियान के तहत सभी को निडर एवं स्वच्छ मतदान करने के लिए प्रेरित किया।
इस अवसर पर सभागार में उपस्थित सभी लोग उस समय मंत्रमुग्ध हो गए जब गायक डैनी सावन कुमार द्वारा स्कूल चले की तर्ज पर चलो मतदान करे हम सवेरे सवेरे, वोट डालने को सजधज के निकले हम पोलिंग बूथ चले, हम सच्चे नेता चुने गीत सुनाया। मतदाताओं को जागरूक करने के लिए संस्था के शैलेन्द्र बिहारिया, रामेश्वर नागले, अजय खातरकर, घनश्याम महतकर, मनोहर मालवीय, राजेन्द्र कटारे, प्रकाश गोहर, यादोराव नागले, अभिलाषा बाथरी, शिखा भौरासे ने अपने खून से ना जाति पर ना धर्म पर वोट देना कर्म पे की अपील लिखी। इस अवसर पर शैलेन्द्र बिहारिया ने कहा कि इस देश की आजादी के लिए व लोकतंत्र की स्थापना के लिए लाखो लोग शहीद हुए थे।
हमे उनकी शहादत को बेकार नहीं जाने देना है हम सबको इस बार अवश्य मतदान करने जाना है, यह अपील सभी से की। उन्होंने कहा कि ना गीतों से ना रंगोली से, ना चंदन से ना रोली से लिख रहे है खून की चंद बोली से लोकतंत्र का उत्सव ये नहीं कम होली से। इस अवसर पर सभी स्वच्छता प्रहरी एवं शौर्या दल के सदस्य उपस्थित थे।