बच्चों के साथ अपराधों में सर्वोच्च स्थान पर मप्र

भोपाल, 25 अक्टूबर (ब्यूरो)। कांग्रेस के मध्यप्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने प्रदेश में बच्चों के साथ अपराध लगातार बढऩे का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश में पिछले 15 साल में बाल श्रमिकों का सर्वे ही नहीं कराया गया है। कमलनाथ ने आज ट्विटर पर सरकार से किए जा रहे सवालों की श्रंृखला में बाल अपराधों का मुद्दा उठाते हुए आंकड़े पोस्ट किए। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में जनगणना के आंकड़ों के अनुसार कुल बाल श्रमिकों की वास्तविक संख्या 7 लाख्$ा है, 15 सालों में सरकार ने बाल श्रमिकों का सर्वे ही नहीं करवाया। साल 2004 में बच्चों के 179 अपहरण होते थे, जो 2016 में छह हजार 119 हो गए। नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे के मुताबिक मध्यप्रदेश में 32 फीसदी नाबालिग बच्चियों की शादी करा दी जाती है।
कमलनाथ ने प्रदेश में नवजात शिशु मृत्यु दर भी सर्वाधिक होने और प्रदेश में सबसे ज्यादा बच्चे गुम होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि बच्चों के प्रति अपराध में प्रदेश नंबर एक पर है, 2004 से 2016 के बीच बच्चों के साथ अपराधों के सबसे ज्यादा 88 हजार 908 मामले प्रदेश में दर्ज हुए।