किसानों की आय दोगुनी करने समिति की रिपोर्ट पर जांच कर रहा कृषि मंत्रालय

नई दिल्ली, 26 अक्टूबर। कृषि मंत्रालय 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए एक अंतर-मंत्रालयी समिति की सिफारिशों पर गौर कर रहा है। कृषि मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बुधवार को यह जानकारी दी। राष्ट्र्रीय वर्षा सिंचित क्षेत्र प्राधिकरण (एनआरएए) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अशोक दलवाई की अध्यक्षता वाली समिति ने वर्ष 2015-16 की थोक कीमतों के आधार पर 2022 तक किसानों की सालाना आय 96,000 रुपए से बढ़ाकर 1.92 लाख रुपए करने के संबंध में विस्तृत रणनीति के साथ रिपोर्ट जमा की है।
कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने कहा, अंतर-मंत्रालयी समिति ने 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के संबंध में सिफारिशें जमा कराई हैं। इस दिशा में आगे बढऩे के लिए कृषि मंत्री अधिकारियों के साथ बैठक कर रहे हैं। अग्रवाल ने कहा कि समिति ने कृषि क्षेत्र में सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्र दोनों के अधिक निवेश करने की जरूरत पर बल दिया है। इसके अलावा कृषि उत्पाद के उत्पादन और विपणन पर ध्यान केंद्रित करने की भी वकालत की। उन्होंने भारतीय खाद्य एवं कृषि परिषद (आईसीएफए) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में कहा कि समिति के कुछ विचारों को लागू किया जा रहा है। इसमें इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफार्म से 585 थोक मंडियों को जोडऩा और देशभर में मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं की स्थापना करना शामिल है।
रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले कुछ वर्षो में कृषि और बागवानी उत्पादन में वृद्धि के बावजूद आर्थिक संकेतक किसानों की आय में न्यायसंगत और समानतापूर्ण वृद्धि नहीं दर्शा रहे हैं। रिपोर्ट में कहा गया है, कृषि की इस स्थिति के पीछे मानवीय कारक है। किसान द्वारा लगातार उत्पादकता और उत्पादन बढ़ाने के बावजूद कृषि क्षेत्र संकट की स्थिति में हैं। कृषि गतिविधियों से आय में वृद्धि की मांग, सरकार द्वारा खरीद सुनिश्चित करने और उचित लाभ प्रदान करने की मांग में तब्दील हो रही है।