करवा चौथ पर निर्जला रह पति की लंबी आयु के लिए महिलाओं ने रखा व्रत

राष्ट्रीय हिन्दी मेल नेटवर्क
खरगोन, 28 अक्टूबर। करवा चौथ पर्व पर शनिवार को सुहागिनों ने अखंड सौभाग्य के लिए निर्जला व्रत रखा। पति के दीर्घायु की कामना की। दिनभर घरों में महिलाएं पूजन.अर्चन के लिए तैयारियां करती रहीं। सांझ को जैसे ही चंद्रमा दिखा पूजन.अर्चन कर पति की लंबी उम्र मांगी। श्रीगुरुद्वारा साहेब परिसर में सिंधी एवं सिक्ख समाज की महिलाओं ने सामूहिक रूप से करवा चौथ व्रत पूजन का आयोजन किया। यहां पूजन के बाद महिलाओं ने भांगड़ा भी किया।
करवाचौथ पर्व पर महिलाओं का उत्साह चरम पर रहा। हाथों में पिया के नाम की मेहंदी, सोलह श्रृंगार कर अखंड सौभाग्य की कामना के साथ सुहागिनों ने निर्जला व्रत रखा। महिलाओं ने मंदिरों में जाकर पति के मंगलमय जीवन की कामना की। सुहागिनों को इंतजार था कि जल्द से जल्द रात हो और चंद्रमा उदय हो जिससे उनके दर्शन कर पिया के हाथों व्रत का पारण करें। ज्यों. ज्यों दिन ढला तो बेचैनी भी बढ़ती गई। अंधेरा छाने लगा तो महिलाओं में चंद्रमा के दीदार की उत्सुकता बढ़ती गई। सुहागिनें कभी छत पर जातीं तो कभी आंगन में आकर आकाश की ओर निहारतीं। बार. बार यह देखतीं कि कहीं चांद निकल तो नहीं आया। जब चंद्रदेव के दर्शन हुए तो उनकी खुशी का ठिकाना नहीं रहा। रात में जैसे ही चंद्रमा उदय हुआ चलनी की ओट से पिया और चंद्रमा का दीदार कर व्रत तोड़ा। मान्यता अनुसार सुहागिनों ने चंद्रदेव, भगवान शिव, माता पार्वती, गणेश जी का पूजन किया। पति के हाथों से जल पीकर व्रत का पारण किया। उन्होंने चंद्रमा और पति की आरती की। पति के चरण छुए और आशीर्वाद लिया। पतियों ने भी उन्हें उपहार दिए और मिठाई खिलाकर व्रत खुलवाया।