धवन के बाद कोहली भी सस्ते में आउट

मुंबई, 30 अक्टूबर। विंडीज के खिलाफ चौथे मुकाबले में भारत का दूसरा विकेट गिर चुका है। ओपनर शिखर धवन के बाद कप्तान विराट कोहली भी सस्ते में आउट हो गए। ओपनर जोड़ी शिखर धवन और रोहित शर्मा ने पहले विकेट के लिए 11.5 ओवर में 71 रनों की साझेदारी हुई। धवन कीमो पॉल की गेंद पर 40 गेंदों में 38 रन बनाकर कैच आउट हुए। इसके बाद 101 के स्कोर पर कोहली विकेट के पीछे कैच आउट हो गए। कोहली 16 रन बनाकर आउट हुए। अब रोहित के साथ अंबाती रायुडू क्रीज पर मौजूद हैं। इस मैच के लिए टीम इंडिया में दो बदलाव किए गए हैं। रिषभ पंत और युजवेंद्र चहल के स्थान पर रविंद्र जडेजा और केदार जाधव को मौका दिया गया है। विंंडीज की ओर से केमो पॉल को मौका मिला है। अब दोनों की वापसी से पावरप्ले और डैथ ओवरों में भारत का प्रदर्शन बेहतर होगा। भारतीय टीम शनिवार को पुणे में पांच विशेष गेंदबाजों के साथ उतरी लेकिन उसे हार का सामना करना पड़ा। विंडीज के खिलाफ मौजूदा दौरे पर यह उसकी पहली हार है।
श्रृखला अब भी 1-1 से बराबर चल रही है । क्रिकेट क्लब आफ इंडिया में कल का मैच हर हाल में जीतना होगा। विंडीज की टीम को पूरा श्रेय दिया जाना चाहिए जो टेस्ट श्रृंखला में लचर प्रदर्शन के बाद वापसी करने में सफल रही और मेजबान टीम को एकदिवसीय प्रारूप में कड़ी टक्कर दे रही है। चयनकर्ताओं ने अंतिम दो मैचों के लिए केदार जाधव को टीम में जगह दी है जिससे भारत को मजबूती मिलेगी। सलामी बल्लेबाज शिखर धवन और रोहित शर्मा लगातार दो मैचों में फैल रहे हैं और टीम को उनसे बड़ी साझेदारी की उम्मीद है। मेजबान टीम के लिए हालांकि सबसे सकारात्मक पक्ष कप्तान कोहली की फार्म है जिन्होंने पुणे में तीसरे वनडे में लगातार तीसरा शतक जड़ा और ऐसा करने वाले पहले भारतीय बने।
प्रशंसकों को कोहली से एक और शतक की उम्मीद होगी। गेंदबाजी की बात करें तो जसप्रीत बुमराह ने वापसी करते हुए शनिवार को तीसरे वनडे में चार विकेट चटकाए। विरोधी टीम के बल्लेबाजों को रोकने में दोनों स्पिनरों युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव की भूमिका अहम होगी। विंडीज की सबसे बड़ी उम्मीद विकेटकीपर बल्लेबाज शाई होप हैं जिन्होंने विशाखापत्तनम में 123 और पुणे में 95 रन की दो अहम पारियां खेली। टीम को उनसे एक और बड़ी पारी की उम्मीद होगी और शिमरोन हेटमायेर से भी जो तीसरे मैच में अच्छी शुरुआत को बड़ी पारी में बदलने में नाकाम रहे। पुणे मैच से पहले बाए हाथ के बल्लेबाज हेटमायेर ने 106 और 94 रन की पारियां खेली थी।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

अच्छा हुआ धोनी को टी-20 से बाहर कर दिया
नई दिल्ली, 30 अक्टूबर। भारतीय क्रिकेट टीम के चयनकर्ताओं ने विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी को विंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आगामी टी20 सीरीज से बाहर कर बड़ा फैसला लिया। वहीं कई इस फैसले के पक्ष में हैं तो कई विपक्ष में। इसी बीच भारत के पूर्व तेज गेंदबाज अजीक अगरकर का मानना है कि धोनी को टी20 से बाहर कर चयनकर्ताओं ने सही फैसला किया है।
अगरकर का कहना है कि 2020 में टी-20 विश्व कप खेला जाना है। ऐसे में विश्?व कप को देखते हुए एमएसके प्रसाद की अध्?यक्षता वाली चयन समिति ने धोनी को टी-20 से बाहर कर सही निर्णय लिया है। उन्होंने कहा, चयनकर्ताओं का कहना है कि टी-20 में धोनी के रास्ते अभी बंद नहीं हुए हैं। मुझे ये बात कुछ समझ नहीं आई, लेकिन मेरी नजर में ये एक सही फैसला है। विश्व कप 2020 को देखते हुए मुझे नहीं लगता तब तक धोनी क्रिकेट खेल पाएंगे। टी-20 क्रिकेट में वो इस वक्त उतने अच्?छे नहीं हैं जितने वो पहले हुआ करते थे। हमें अब आगे की ओर देखना चाहिए।
ये भारतीय क्रिकेटर बोला- अच्छा हुआ धोनी को टी20 से बाहर कर दिया
अगरकर ने कहा, जब धोनी कप्तान हुआ करते थे उस वक्त वो भी हमेशा आगे की ओर की देखा करते थे। इससे फर्क नहीं पड़ता कि वो अपने करियर के दौरान कितने बड़े खिलाड़ी रहे हैं, लेकिन हमें देखना होगा कि मौजूदा समय में वो कैसे खेल रहे हैं। चयनकर्ताओं को समझाना चाहिए कि धोनी को टी-20 से आराम दिए जाने का सही मतलब क्या है। जो भी है उन्हें टी-20 से बाहर किए जाने का फैसला एक दम सही है।
धोनी की जगह टी-20 में रिषभ पंत और दिनेश कार्तिक को जगह दी गई है। 21 नवंबर से ऑस्ट्रेलिया में टी-20 सीरीज से दौरे की शुरुआत होगी। धोनी आईपीएल 2018 के बाद से ही खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं। ऐसे में कयास लगाए जा रहे हैं कि टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद अब धोनी का टी-20 करियर भी लगभग खत्म हो गया है। वो विश्व कप 2019 के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले सकते हैं।