भारत ने विंडीज को धोया, 3-1 से किया सीरीज पर कब्जा

तिरूवनंतपुरम, 2 नवम्बर। बाएं हाथ के स्पिनर रविंद्र जडेजा के चार विकेट की मदद से भारत ने गुरूवार को यहां ग्रीनफील्ड स्टेडियम में पांचवें और अंतिम एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच में वेस्टइंडीज को 104 रन पर समेट दिया। वेस्टइंडीज की टीम ने पूरी तरह घुटने टेक दिये और टीम महज 31.5 ओवर में आउट हो गई। रविंद्र जडेजा ने 34 रन पर चार विकेट झटककर शानदार प्रदर्शन किया जबकि खलील अहमद और जसप्रीत बुमराह ने दो दो विकेट चटकाए। मेहमान टीम के कप्तान जेसन होल्डर ने टास जीतकर बल्लेबाजी का फैसला किया लेकिन वे शुरू से ही मुश्किल में आ गए।
तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने कीरोन पावेल को चौथी ही गेंद पर आउट किया, यह बल्लेबाज खाता भी नहीं खोल सका था और विकेट के पीछे महेंद्र सिंह धोनी को कैच दे बैठा। शाई होप इस दौरे पर शिमरोन हेटमायेर के साथ वेस्टइंडीज के बेहतरीन बल्लेबाज रहे हैं, लेकिन बुमराह ने दूसरे ओवर में खूबसूरत गेंद पर उनका विकेट झटका जिससे टीम का स्कोर दो विकेट पर दो रन था। अनुभवी खिलाड़ी मार्लोन सैमुअल्स से टीम को काफी उम्मीदें थी, उन्होंने कुछ बेहतरीन बाउंड्री और पारी का एकमात्र छक्का जड़कर इन्हें पूरा करने का प्रयास किया।
भारतीय दबदबे का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि पहली बाउंड्री छठे ओवर में लगी जब रोवमैन पावेल ने बुमराह की गेंद को उठाकर इस पर चौका लगाया। सैमुअल्स की 24 रन की पारी भी 12वें ओवर में समाप्त हो गई, जब जडेजा की गेंद पर कप्तान विराट कोहली ने शानदार कैच लिया। होल्डर ने संयम से खेलते हुए भारतीय गेंदबाजों का सामना करना जारी रखा लेकिन वह भी ज्यादा देर तक क्रीज पर नहीं टिक सके और 25 रन बनाकर शीर्ष स्कोर रहे।
उन्होंने खलील अहमद की गेंद को ऊपर खेलने का प्रयास किया और डीप में खड़े केदार जाधव ने दौड़ते हुए उनका कैच लिया। इसके बाद स्पिनरों ने पुछल्ले बल्लेबाजों को समेट दिया। इससे पहले इस मैच में विंडीज के कप्तान ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फैसला किया था। वेस्टइंडीज़ की टीम पहले बल्लेबाज़ी करते हुए भारतीय गेंदबाजों के सामने धराशाई हो गई और 31.5 ओवर में 104 रन पर ऑल आउट हो गई। भारत को इस मुकाबले में जीत के लिए 105 रन का आसान लक्ष्य मिला था।
लक्ष्य ऐसा नहीं था कि भारत को कोई परेशानी हो पाती। ओपनर शिखर धवन जरूर छह रन बनाकर ओशने की गेंद पर बोल्ड हुए लेकिन इसके बाद भारत के दो सबसे बड़े बल्लेबाजों ने लक्ष्य को बेहद छोटा बना दिया। उपकप्तान रोहित और कप्तान विराट कोहली ने मनमाने अंदाज में रन बटोरते हुए विंडीज को शर्मिंदगी झेलने के लिए मजबूर कर दिया।
रोहित ने 56 गेंदों में पांच चौके और चार छक्के उड़ाते हुए नाबाद 63 रन ठोके। रोहित ने अपनी पारी के दौरान 2018 में अपने 1000 रन भी पूरे कर लिए। रोहित ने दो छक्के लगाने के साथ वनडे में 200 छक्के पूरे कर लिए और यह उपलब्धि हासिल करने वाले सातवें बल्लेबाज बन गए। उपकप्तान ने अपने कप्तान विराट के साथ दूसरे विकेट की अविजित साझेदारी में 79 गेंदों में 99 रन जोड़े। विराट 29 गेंदों में छह चौकों की मदद से 33 रन बनाकर नाबाद रहे और इसके साथ ही उन्होंने सीरीज में 450 रन भी पूरे कर लिए।
भारत ने इससे पहले घरेलू जमीन पर न्यूजीलैंड को 3-2, इंग्लैंड को 2-1, ऑस्ट्रेलिया को 4-1, न्यूजीलैंड को 2-1 और श्रीलंका को 2-1 से हराया था। भारत ने इस सीरीज का पहला मैच जीता, दूसरा टाई रहा, तीसरा गंवाया लेकिन फिर जबरदस्त वापसी करते हुए चौथा और पांचवां मैच जीत लिया। विंडीज की टीम भारत में पिछले 12 वर्षों में कोई सीरीज नहीं जीत पाई है।