विपक्षी एकता का मकसद है भाजपा को हराना: राहुल गांधी

नयी दिल्ली, 2 नवंबर, (वार्ता)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि विपक्षी एकता का एकमात्र मकसद भारतीय जनता पार्टी को हराकर उसे सत्ता से बाहर करना है और उसके बाद अन्य मुद्दों पर विचार किया जाएगा।
गांधी ने गुरुवार को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू से अपने आवास पर मुलाकात के बाद कहा कि विपक्ष की एकजुटता की प्राथमिकता भाजपा को हराना है और देश के लोकतंत्र तथा लोकतांत्रिक संस्थाओं को बचाना है। इसके बाद मिल बैठकर अन्य सभी बिंदुओं का समाधान निकाला जाएगा।
नायडू से हुई बातचीत के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, नायडू से हुई बातचीत का मुख्य विषय यही था कि मिलकर भाजपा को हराने का काम करेंगे। भाजपा देश के संस्थानों को बर्बाद कर रही है। देश के लोकतंत्र और संविधान पर आक्रमण कर रही है। उसे रोकने के लिए हम मिलकर एक साथ काम करने जा रहे हैं। इस मुलाकात का यही मुख्य संदेश है कि हम सब मिलकर काम करेंगे। युवाओं के सामने सबसे बड़ा मुद्दा है बेरोजगारी है। उन्हें रोजगार नहीं मिल रहा है। भ्रष्टाचार, राफेल, अनिल अंबानी और 30 हजार करोड़ रुपए और किसान, इन्हें मुद्दा बनाकर चुनाव लड़ रहे हैं।
गांधी से करीब एक घंटे तक हुई बैठक के बाद नायडू ने कहा जितने भी दल भाजपा के खिलाफ हैं, वे सभी एक मंच पर आ रहे हैं। हमारा उद्देश्य देश को बचाना है। देश के लोकतंत्र की सुरक्षा जरूरी है, इसलिए सारे पुराने मतभेद भुलाकर सब एक मंच पर आ रहे हैं। यह बहुत आवश्यक हैं।
तेदेपा नेता ने आज कांग्रेस अध्यक्ष के अलावा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार और नेशनल कांफ्रेंस नेता तथा जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला से भी मुलाकात की। अब्दुल्ला से यह उनकी दूसरी मुलाकात है। नायडू पिछली बार दिल्ली आए थे और उस समय उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती और कुछ अन्य नेताओं से मुलाकात की थी।