भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में हावी रहे शिवराज और तोमर

 

आज जारी हो सकती है 150 प्रत्याशियों की पहली सूची

नई दिल्ली, 2 नवंबर, ब्यूरो। भाजपा संसदीय बोर्ड की बैठक में मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के प्रत्याशियों के नाम लगभग तय कर लिए गए हैं। पार्टी सूत्रों की माने तो कल शाम तक करीब सवा सौ प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर दी जाएगी। प्रत्याशियों के चयन को लेकर दिल्ली स्थित भाजपा कार्यालय मेें आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केन्द्रीय मंत्री नरेन्द सिंह तोमर की जोड़ी सब पर हावी रही। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इन दोनों पर भरोसा जताते हुए कहा कि कोई भी प्रत्याशी ऐसा न चयनित किया जाए जिसके हारने की संभावना तनिक भी हो। प्रधानमंत्री ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र ङ्क्षसह तोमर के सुझाव को विशेष महत्व दिया। उन्होंने यह भी कहा कि उम्मीदवारों के चयन में विशेष सतर्कता बरती जाए। 100 प्रतिशत जीतने वाले उम्मीदवार को ही पार्टी का प्रत्याशी घोषित किया जाए।  शाम 6:30 बजे से लेकर देर रात तक संसदीय बोर्ड की बैठक चली। जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली, नितिन गडकरी, राजनाथ ङ्क्षसंह, थावरचंद गहलोत, सुषमा स्वराज, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, विनय सहस्त्रबुद्धे, प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत, मध्यप्रदेश के मंत्री नरोत्तम मिश्रा विशेष रूप से मौजूद रहे। पार्टी सूत्रों की माने तो प्रदेश नेतृत्व ने 163 सीटों के लिए सिंगल नाम की सूची संसदीय बोर्ड की बैठक में रखी थी। शेष सीटों पर दो नाम का पैनल सामने रखा था। बैठक में मध्यप्रदेश भाजपा द्वारा कराए गए सर्वे के आधार पर चयनित किए गए उम्मीदवारों के नाम सामने रखे गए थे। केंद्रीय नेतृत्व ने इस सूची को अपने केंद्रीय एजेंसी द्वारा कराए गए सर्वे से मिलान किया। मिलान में दो दर्जन से अधिक नाम में अंतर पाया गया, जिसे बोर्ड ने बदलने की सलाह दी। इस पर प्रदेश व केेंद्रीय नेतृत्व के बीच असमंजस की स्थिति बन गई। अंतत: करीब 150 नामों पर सहमति बन गई है, अब यह माना जा रहा है कि कल शाम को उम्मीदवारों के नाम घोषित कर दिए जाएंगे। 2 नवंबर से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। सूची जारी होने के बाद उम्मीदवारों को बी फार्म जारी कर दिए जाएंगे। वहीं बात करें कांगे्रस की तो उम्मीदवारों के नाम को लेकर आपस में सहमति नहीं बनने के कारण सूची की घोषणा पर कल तक के लिए रोक लगा दी है। दोनों ही पार्टियां अपने अधिकृत प्रत्याशी के साथ एक-एक डमी उम्मीदवार से भी नामांकन फार्म भरवाएगी। उम्मीदवारों के चयन को लेकर एक सर्वे अमित शाह और राम माधव ने भी कराया था। बताया जा रहा है कि जो नाम अमित शाह की सर्वे रिपोर्ट से मेल खाएंगे, उन्हें पहली सूची में घोषित कर दिए जाएंगे। पहले ही इस बात को स्पष्ट कर दिया गया था कि जो नाम अमित शाह की सूची से मेल नहीं खाएंगे, उन पर बाद में विचार किया जाएगा। संसदीय बोर्ड की बैठक के पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मंत्री नरोत्तम मिश्रा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बंगले पर पहुंचे। यहां तीन चरणों में बैठक आयोजित की गई और सर्वे के आधार पर नामों का चयन किया गया है। प्रदेश कार्यालय की बढ़ाई सुरक्षाविधानसभा चुनाव के उम्मीदवारों की सूची जारी होने के सूचना मिलते ही प्रदेश भाजपा कार्यालय की सुरक्षा बढ़ा दी गई। शाम होते ही दो दर्जन पुलिस कर्मियों ने प्रदेश कार्यालय को सुरक्षा के घेरे में ले लिया। शाम 7 बजे भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष विजेश लुणावत बैठक से बाहर आए तो उन्होंने सुरक्षा में तैनात पुलिस अधिकारियों से पुलिस बल कम करने को कहा, इसके बाद डीआईजी के निर्देश पर प्रदेश भाजपा कार्यालय से 15 पुलिसकर्मी हटा दिए गए।