संवेदनशील गतिविधियों की वीडियोग्राफी कराई जाए

भोपाल, 4 नवम्बर। भारत निर्वाचन आयोग ने प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान संवेदनशील गतिविधियों की वीडियो रिकार्डिंग करवाये जाने के निर्देश जिला निर्वाचन अधिकारियों को दिये हैं। आयोग द्वारा निर्वाचन प्रेक्षकों से भी कहा गया है कि वे अपने दौरे के समय अथवा उनके संज्ञान में कोई महत्वपूर्ण घटना की जानकारी आने पर उसकी अनिवार्य रूप से वीडियोग्राफी करवायें। निर्देश में कहा गया है कि उम्मीदवारों के चुनावी खर्च पर निगरानी रखने तथा राजनैतिक दलों के बड़े नेताओं की आमसभा एवं सार्वजनिक रैलियों की भी वीडियोग्राफी करवाई जाये, जिससे उनके वास्तविक खर्च का पता लगाया जा सके। आयोग ने यह भी स्पष्ट किया है कि किसी दल या उम्मीदवार द्वारा अन्य किसी उम्मीदवार के खिलाफ न्यायालय में याचिका दायर की जाती है तो विशेष संवेदनशील घटनाओं की वीडियो सीडी महत्वपूर्ण साक्ष्य के रूप में काम आती है। विशेष घटनाओं की वीडियो सीडी की माँग होने पर निर्धारित मूल्य तय कर जनसामान्य को इसकी प्रति उपलब्ध करवाई जा सकती है।
उम्मीदवार को शपथ पत्र के सभी कॉलम भरना होगा
विधानसभा चुनाव में उम्मीदवार को प्रारूप 26 में शपथ पत्र प्रस्तुत करना होगा। चुनाव आयोग के निर्देशानुसार शपथ पत्र में उम्मीदवार के नाम पर विदेश में कोई संपत्ति है तो विदेश में जमा राशि, अपनी चल अचल संपत्ति का ब्यौरा भी देना अनिवार्य है। यह शपथ उसे पब्लिक नोटरी या ओथ कमिश्नर अथवा प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट के समक्ष लेनी है। शपथ पत्र का कोई कालम भी खाली नहीं छोडऩा है। शपथ पत्र नामांकन की अंतिम तिथि के दिन 3 बजे तक जमा किया जा सकता है। उच्चतम न्यायालय के निर्णय अनुसार यदि कोई अभ्यर्थी शपथ पत्र में कोई भी कालम खाली छोड़ता है एवं इस आशय की जानकारी यदि रिटर्निंग अधिकारी ने सूचना द्वारा अभ्यर्थी को दे दी है एवं इस सूचना उपरांत भी अभ्यर्थी अपने शपथ पत्र में कालम पूर्ण नहीं भरता या निर्वाचन आयोग द्वारा प्रदत्त चेक लिस्ट अनुसार नया शपथ पत्र निर्धारित समयावधि में प्रस्तुत नहीं करता तो ऐसी स्थिति में उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार अभ्यर्थी का नाम-निर्देशन पत्र निरस्त कर दिया जाएगा। जिला निर्वाचन अधिकारी ने राजनैतिक दलों को अवगत कराया है कि अभ्यर्थी नामांकन प्रस्तुत करते समय अपने शपथ पत्र में कोई भी कालम रिक्त न छोड़े। यदि किसी कालम में कोई जानकारी निरंक है तब वहां शून्य या लागू नहीं होता लिखा जाना चाहिए।