टिकट बंटवारे के बाद भाजपा में उठने लगे विरोध के सुर

राजनीतिक संवाददाता
भोपाल, 4 नवंबर। भारतीय जनता पार्टी में टिकट बंटवारे के साथ ही कार्यकर्ताओं का विरोध शुरू हो गया है। रतलाम ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के विधायक मथुरालाल डामर ने अपना टिकट कटने पर नाराजगी जताई है। उन्होनें डेढ़ करोड़ में टिकट बिकने का सनसनीखेज आरोप लगाया है। जिसका वीडियों भी सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। पार्टी ने रतलाम ग्रामीण दिलीप मकवाना को प्रत्याशी बनाया है। टिकट मिलने के बाद मकवाना विधायक मथुरालाल डामर से मिलने उनके घर गए थे। पार्टी निर्णय से नाराज ग्रामीण विधायक डामर ने भाजपा प्रत्याशी दिलीप मकवाना को घर के भीतर भी नहीं आने दिया। बताया जा रहा है कि नाराज विधायक ने श्री मकवाना पर टिकट खरीदने का आरोप लगाया। विधायक की नाराजगी सामने आते ही भाजपा का स्थानीय संगठन डैमेज कंट्रोल की कोशिशों में जुट गया।
भाजपा जिलाध्यक्ष कान सिंह चौहान ने रतलाम ग्रामीण के असंतुष्ट नेताओं से मुलाकात कर उन्हे समझाने बुझाने की कोशिश कर रहे हैं। विधायक की नाराजगी अब भी बरकरार है। उन्होंने कहा कि पार्टी ने यदि किसी पाटी ने कार्यकर्ता को टिकट दिया होता, तब भी वे इतना आक्रोशित नहीं होते, लेकिन पार्टी ने एक शासकीय कर्मचारी को टिकट दे दिया। दिलीप मकवाना ने एक दिन पहले नौकरी से त्यागपत्र दिया और अगले दिन पार्टी ने उन्हे टिकट दे दिया। इसके अलावा आज प्रदेश भाजपा कार्यालय में मुंगावली विधानसभा से केपी यादव को टिकट दिए जाने के विरोध में बाईसाहब यादव के समर्थकों ने प्रदेश संगठन के सामने अपना विरोध दर्ज कराया। प्रदेश कार्यालय में यादवेंद्र सिंह यादव ने मीडिया से चर्चा में कहा कि केपी सिंह यादव को कांग्रेस से भाजपा में शामिल करके टिकट दिया गया है। जबकि क्षेत्र में उनका बहुत विरोध है,साथ ही उन्होंने कहा कि यदि पार्टी ने अपना फैसला नहीं बदला तो वे सभी कार्यकर्ता घर बैठ जाएंगे और उनके लिए काम नहीं करेंगे। इससे पार्टी को नुकसान उठाना पड़ सकता है।
कृष्णा गौर के समर्थकों ने की टिकट की मांग
गोविंदपुरा विधानसभा क्षेत्र से पूर्व महापौर कृष्णा गौर को टिकट दिए जाने की मांग को लेकर आज उनके समर्थकों ने गोविंदपुरा में मीटिंग कर टिकट मांग की है। गोविंदपुरा विधानसभा से अचानक भाजपा के प्रदेश महामंत्री विष्णुदत्त शर्मा का नाम सामने आने से कार्यकर्ता ने विरोध करना शुरू कर दिया है। शाम को कांग्रेस नेता गोविंद गोयल पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर से मिलने पहुंच गए साथ ही उन्होंने कृष्णा गौर को कांग्रेस की तरफ से टिकट देने का ऑफर भी कर दिया है।
प्रदेश अध्यक्ष को आया गुस्सा
टिकट बंटने के बाद प्रदेश भाजपा कार्यालय में विरोध करने पहुंच रहे कार्यकर्ताओं पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को गुस्सा आ गया, और कड़े लहजे में कार्यकर्ताओं को डांटने लगे। यह सुनकर थोड़ी देर के लिए कार्यकर्ता भी असहज हो गए। थोड़ी देर में वे कार्यकर्ताओं से मिलकर वापस अपने कमरे में चले गए।