विधानसभाओं के गणना कक्ष के लिए लगाएं संकेतक: खाडे

जिला निर्वाचन अधिकारी ने स्थल निरीक्षण कर दिए आवश्यक निर्देश

नगर संवाददाता

भोपाल, 4 दिसम्बर। विधानसभा निर्वाचन 2018 में जिले की सातों विधानसभा क्षेत्रों के लिए मतगणना 11 दिसम्बर 2018 को प्रात: 8 बजे से पुरानी जेल भवन स्थित मतगणना कक्षों में सम्पन्न होगी। आज कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. सुदाम खाडे तथा डीआईजी धर्मेन्द्र चौधरी ने मतगणना हेतु विधानसभावार बनाए गए कक्षों का निरीक्षण किया, उन्होंने मतगणना हेतु कार्मिकों, अभ्यर्थियों, मतगणना अभिकर्ता तथा मीडिया कर्मियों के प्रवेश की व्यवस्था, बैठक व्यवस्था एवं शौचालय आदि व्यवस्थाओं की समीक्षा कर संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि सभी स्थलों पर पर्याप्त संख्या में भारत निर्वाचन आयोग के मतगणना संबंधी दिशा निर्देश एवं विभिन्न विधानसभाओं के गणना कक्ष के लिए संकेतक लगाना सुनिश्चित करें।
डॉ. खाडे ने पार्किंग व्यवस्था, पेयजल व्यवस्था, ब्राडबैंड कनेक्टिविटी, सीलिंग स्थल आदि की व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए सतत विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए। इस अवसर पर एसपी राहुल लोढ़ा, एसपी मुख्यालय धर्मवीर यादव, अपर कलेक्टर एवं उप जिला निर्वाचन अधिकारी संतोष वर्मा, अपर कलेक्टर श्रीमती दिशा नागवंशी सहित संबंधित शासकीय सेवक उपस्थित थे।
निर्वाचित प्रतिनिधि नहीं बन सकेंगे अभ्यर्थियों के मतगणना एजेंट
भारत निर्वाचन आयोग ने किसी भी निर्वाचन में केन्द्र व राज्य सरकार के मंत्रियों और सांसदों, विधानसभा एवं विधान परिषदों के सदस्यों तथा राज्य का सुरक्षा कवर प्राप्त किसी अन्य व्यक्ति को चुनाव लड़ रहे उम्मीदवारों के मतगणना अभिकर्ता बनाने पर रोक लगाई है। निर्वाचन आयोग ने कहा है कि निर्वाचित प्रतिनिधियों के साथ रहने वाले सुरक्षा कर्मियों को मतगणना केन्द्र में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जा सकती और न ही उनकी सुरक्षा को उनके सुरक्षा कर्मियों की अनुपस्थिति में खतरे में डाला जा सकता है। आयोग के मुताबिक सुरक्षा कवर वाले किसी व्यक्ति को मतगणना अभिकर्ता बनने के लिए सुरक्षा कवर वापस करने की अनुमति भी नहीं दी जा सकती है।
मतगणना स्थल पर अधिकृत व्यक्ति को मिलेगा प्रवेश
विधानसभा निर्वाचन-2018 की मतगणना जिला मुख्यालय स्थित में 11 दिसम्बर को पुरानी जेल में होगी। भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मतगणना हाल में अंदर केवल अधिकृत व्यक्ति को ही प्रवेश दिया जाएगा, इनमें गणना पर्यवेक्षक और गणना सहायक, निर्वाचन आयोग द्वारा अधिकृत व्यक्ति, निर्वाचन के संबंध कर्त्तव्यारूढ लोकसेवक एवं उम्मीदवार तथा उनके निर्वाचन और गणना अभिकर्ता शामिल रहेंगे। मतगणना प्रारंभ होने के पूर्व यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है कि अधिकृत व्यक्तियों के अलावा अन्य कोई व्यक्ति हाल में उपस्थित न हो। आयोग ने यह भी ध्यान रखने को कहा है कि निर्वाचन के संबंध में कर्त्तव्यारूढ़ लोकसेवक के अंतर्गत सामान्य रूप से पुलिस अधिकारी नहीं आते हैं, ऐसे अधिकारियों को चाहे वे वर्दी में हो, या सादे वस्त्रों में, सामान्यत नियमानुसार काउंटिंग हाल के अंदर आने की अनुमति नहीं दी जाएगी जब तक कि कानून और व्यवस्था बनाए रखने या किसी भी प्रकार के अन्य प्रयोजन से अंदर बुलाने का निर्णय न लिया जाए। आयोग ने उक्त ब्यौरे के अनुसार व्यक्तियों के प्रवेश को कड़ाई से विनियमित करने कहा है।