स्ट्रांग रूम में कांग्रेस नेताओं का जाना आपत्तिजनक, भाजपा ने की शिकायत

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने ईवीएम स्ट्रांग रूम में कांग्रेस नेताओं के प्रवेश को आपत्तिजनक बताते हुए इसकी शिकायत निर्वाचन आयोग से की है। पार्टी ने इससे संबंधित जानकारी सार्वजनिक किए जाने और संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई की मांग भी की है।
भारतीय जनता पार्टी की निर्वाचन आयोग संबंधी समिति के संयोजक शांतिलाल लोढ़ा ने पुरानी जेल स्थित स्ट्रांग रूम में कांग्रेस नेता सुरेश पचौरी और कैलाश मिश्रा के जाने को आपत्तिजनक बताते हुए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से शिकायत की है। श्री लोढ़ा ने शिकायत में कहा है कि भोपाल से प्रकाशित दैनिक समाचार पत्र प्रकाशित समाचार में यह उल्लेख है कि पूर्व केन्द्रीय मंत्री और भोजपुर के कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश पचौरी पुरानी जेल पहुंचे। जिला अध्यक्ष कैलाश मिश्रा के साथ अंदर जाकर व्यवस्थाएं देखकर आए। कांग्रेस पार्टी द्वारा ईवीएम की सुरक्षा को लेकर कई प्रकार की भ्रांतियां फैलाई जा रही हैं एवं जिला प्रशासन के साथ साथ निर्वाचन आयोग जैसी संवैधानिक संस्था की प्रतिष्ठा पर भी उनके द्वारा प्रश्न चिन्ह लगाया जा रहा है, जो निश्चित रूप से अवांछनीय है। श्री लोढ़ा ने कहा है कि पुरानी जेल में भोपाल जिले की सभी विधानसभाओं की ईवीएम स्ट्रांग रूम में त्रिस्तरीय सुरक्षा में रखी गयी है।

सुरेश पचौरी एवं कैलाश मिश्रा का अंदर जाना अत्यंत आपत्तिजनक है, क्योंकि ये दोनों नेता भोपाल जिले की किसी भी विधानसभा से कांग्रेस प्रत्याशी नहीं हैं। अंदर जाकर व्यवस्थाएं देखने का अधिकार सिर्फ भोपाल जिले की विधानसभाओं के प्रत्याशियों को ही है। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी को की गई शिकायत में श्री लोढ़ा ने पूछा है कि इस संबंध में कांग्रेस द्वारा क्या कोई आवेदन दिया गया था और क्या इस संबंध में कोई आदेश पारित किया गया था? अगर ऐसा कोई आदेश पारित हुआ है, तो उसे सार्वजनिक किया जाए। अगर बिना आवेदन, बिना आदेश के कांग्रेस नेताओं को प्रवेश दिया गया है, तो इस संबंध में धारा 20 और 20 ए आरपीएक्ट के अधीन दायित्व आता है। श्री लोढ़ा ने मांग की है कि निर्वाचन प्रक्रिया नियमों से संचालित हो, इसलिए जिम्मेदार अधिकारी पर कार्रवाई की जानी चाहिए।