नौकरी के लिए किए जा सकते हैं अनफिट घोषित

बीमारी का बहाना बनाकर चुनाव ड्यूटी से मुक्ति तो मिली लेकिन अब..
प्रशासनिक संवाददाता

भोपाल, 4 दिसंबर। चुनावी ड्यूटी से छुट्टी लेने वाले अधिकारी और कर्मचारियों के लिए परेशानी खड़ी हो गई है, दरअसल कलेक्टर डॉ सुदाम खाडे ने बीमारी को लेकर चुनाव ड्यूटी से छुट्टी लेने वाले कर्मचारियों का मेडिकल बोर्ड से चेकअप कराया गया था, जिसमें करीब 50 अधिकारी-कर्मचारी ऐसे सामने आए हैं, जो अनफिट हैं। ऐसे में इन लोगों की नौकरी पर खतरा बढ़ गया है।
ऐसे में यह सर्टिफिकेट संबंधित विभाग को मिलने के बाद इन लोगों की नौकरी जा सकती है। इधर जिला प्रशासन मतगणना के बाद इनका डेटा संबंधित विभागों को भेज सकता है। जिले की सात विधानसभा में होने वाले चुनाव के लिए जिला निर्वाचन कार्यालय ने जिले के करीब 12 हजार अधिकारी और कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई थी। यह कर्मचारी जिले के 466 सरकारी कार्यालयों के हैं। इनमें से मतदान दलों में शामिल करीब एक हजार कर्मचारियों ने चुनावी ड्यूटी से छुट्टी ली है, जबकि सेक्टर स्तर पर तैनात करीब चार सौ कर्मचारियों ने चुनावी ड्यूटी से नाम हटवा लिया है। इनमें करीब 58 प्रेग्नेंट महिला कर्मचारी भी शामिल हैं। पचास कर्मचारी ऐसे सामने आए हैं, जो मेडिकल बोर्ड के टेस्ट में अनफिट मिले हैं। जिसके आधार पर इनकी ड्यूटी हटा दी गई थी। मतदान होने के बाद अब मतगणना के लिए अधिकारी और कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ सुदाम खाडे का कहना है कि मेडिकल बोर्ड की जांच में अनफिट मिले अधिकारी और कर्मचारियों की जानकारी संबंधित विभागों को भेज दी जाएगी।
डेटा फीडिंग में हुई गड़बड़ी
जिले के 466 सरकारी दफ्तरों में काम करने वाले करीब 12 हजार कर्मचारियों का डेटा बैस तैयार किया गया था। यह डेटा बैस कर्मचारियों की डिटेल से भरा गया था, जिसमें कर्मचारियों के पद और उनसे जुड़ी आधी-अधूरी जानकारी अपलोड की गई। जिसकी वजह से रेंडमली ड्यूटी लगाने में यह गड़बड़ी हो गई। जिला निर्वाचन कार्यालय ने इन कर्मचारियों की ड्यूटी में सुधार कर लिया है।