हमको हमारा पीए, पीएस मांगता

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद जैसे ही विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई, तब तक तो माननीय बहुत खुश थे, लेकिन जैसे ही मुख्यमंत्री ने उनके निजी स्टाफ को लेकर उन्हें बंधन में बांधना शुरू कर दिया तो मंत्रियों के मुंह फूलने लगे। खबरची को यह जानकारी मिली है कि मुख्यमंत्री ने सभी मंत्रियों से कहा कि मंत्रियों के पीए और पीएस की नियुक्ति वे अपने हिसाब से करेंगे। ताकि मंत्रियों के नाम दलाली करने वाले बिचौलियों से बचा जा सके। मुख्यमंत्री का यह फरमान नए मंत्रियों को रास नहीं आ रहा है। यही वजह है कि मंत्री अब अपने व्यक्तिगत अधिकारों के लिए समकक्ष गुटीय नेता की शरण में जाने लगे हैं। … खबरची