प्रदेश सरकार पर नहीं कोई संकट: प्रभुराम चौधरी

वचन पत्र होगा पूरा, इसके लिए पूरी तैयारी के साथ किया जाएगा काम

विनीत माहेश्वरी
रायसेन, 28 दिसंबर। मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार में पनप रहे विरोध के स्वर एवं किसी भी प्रकार के संकट होने पर साफ तौर पर इंकार किया। उन्होंने कहा कि किसी भी समस्या का एकदम निराकरण नहीं होता है, लेकिन बातचीत से हर चीज का निराकरण निकाला जा सकता है। प्रदेश सरकार में किसी भी तरह की खींचतान नहीं है और दो दिन से लगातार कैबिनेट बैठक हुई है। डॉ. चौधरी ने कहा कि भाजपा की सोच गलत है कि कांग्रेस में फूट है, जबकि कांग्रेस में किसी भी प्रकार की फूट नहीं है। भाजपा को 15 साल जनता ने काम करने का मौका दिया और अब कांग्रेस को जनता ने बहुमत दिया है इसलिए अब कांग्रेस को काम करने देना चाहिए। वहीं विभाग आवंटन अब तक ना होने के सवाल पर उन्होंने साफ तौर पर तो जबाव नहीं दिया लेकिन कहा कि जल्द ही विभाग आवंटन भी हो जाएगा।
वचन पत्र को लागू किया जाएगा
कैबिनेट मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि वचन पत्र को पूरे तरीके से लागू किया जाएगा और इसकी शुरूआत भी हो गई है, जब वचन पत्र में 2 लाख रूपए तक का किसानों का कर्जा 10 दिन में माफ किए जाने का कांग्रेस ने वचन दिया था और मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कुर्सी पर बैठकर 10 दिन नहीं 10 घंटे के अंदर ही किसानों का 2 लाख रूपए तक का कर्जा माफ किए जाने का आदेश जारी कर दिया। उन्होंने कहा कि इसी तरह वचन पत्र में किए गए वचन को लागू करने में योजनाबद्ध तरीके से काम किया जाएगा और पूरी मानीटरिंग भी की जाएगी।
पुलिस ने किसानों को भांजी लाठी, एसपी ने किया इंकार
वहीं यूरिया वितरण के दौरान पुलिस ने किसानों को लाठी भांजने के मामले को मुख्यमंत्री कमलनाथ ने गंभीरता से लिए जाने के बाद मौके पर किसानों से चर्चा करने के लिए शुक्रवार को प्रदेश के कैबिनेट मंत्री एवं सांची विधायक डॉ. प्रभुराम चौधरी सरकारी खाद गोदाम पर पहुंचे और उन्होंने एसपी जगत सिंह राजपूत को तलब किया। पुलिस ने किसानों पर हल्का बल प्रयोग करने में साफ तौर पर इंकार कर दिया। वहीं उन्होंने कलेक्टर एस प्रिया मिश्रा से चर्चा करते हुए यूरिया वितरण व्यवस्था को बेहतर किए जाने के लिए काउंटर बढ़ाए जाने के निर्देश दिए।