किसानों पर लाठीचार्ज की जांच के निर्देश

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने डीजीपी को सौंपी जिम्मेदारी

प्रशासनिक संवाददाता
भोपाल, 28 दिसंबर। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रायसेन और शिवपुरी के करैरा में खाद लेने आए किसानों पर लाठियां चलाने के मामले में जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने डीजीपी को इस मामले की जांच कराने के निर्देश दिए हैं। असल में किसान यूरिया लेने के लिए कतार में खड़े थे, वहां पर भीड़ बढऩे से अव्यवस्था की स्थिति बन रही थी, तभी पुलिस ने उन पर लाठियां भांजनी शुरू कर दीं। इससे कुछ किसानों को गंभीर चोंटे भी आई थीं, जिससे उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा था।
रायसेन और करैरा में पुलिस की लाठीचार्ज की खबरें मुख्यमंत्री कमलनाथ तक पहुंचीं। इस पर कमलनाथ ने नाराजगी जताई और डीजीपी को निर्देश दिया है कि वो तत्काल इस मामले की जांच कराएं। उन्होंने डीजीपी कहा है कि जांच करें कि किसानों पर बलप्रयोग की स्थिति क्यों बनी। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए बलप्रयोग किया गया या अनावश्यक कारण से लाठियां चलाई गईं। अगर अनावश्यक बलप्रयोग किया गया है तो दोषी पुलिसकर्मियों पर कड़ी कार्रवाई की जाए। बता दें कि मुख्यमंत्री कमलनाथ पहले ही कह चुके हैं कि ये किसान हितैषी सरकार है। प्रशासन से उन्होंने कहा है कि सरकार किसानों का दमन किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। ये बीजेपी सरकार नहीं है, जिसमें किसानो के सीने पर गोलियां दागी गयी थीं।
दॅ एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर फिल्म पर प्रदेश में रोक नहीं : मध्यप्रदेश सरकार द्वारा फिल्म दॅ एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर पर बैन नहीं लगाया गया है। पहले ऐसी खबरें आ रही थीं कि कमलनाथ सरकार ने फिल्म पर प्रतिबंध लगा दिया है। जिसके बाद जनसंपर्क मध्यप्रदेश ने खबर का खंडन करते हुए ट्वीट कर लिखा, मध्यप्रदेश सरकार द्वारा फिल्म दॅ एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर पर बैन नहीं लगाया गया है। मीडिया में चल रही फिल्म पर प्रतिबंध की खबर भ्रामक और गलत है। बाद में कमलनाथ ने भी साफ कर दिया कि फिल्म पर बैन लगाने की मंशा नहीं है। हालांकि कांग्रेस पार्टी ने पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के जीवन पर आधारित फिल्म दॅ एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर के रिलीज होने के पहले ही प्रश्न खड़े करने शुरू कर दिए हैं। मध्यप्रदेश में सत्तारूढ़ दल कांग्रेस ने आज इस फिल्म का ट्रेलर सोशल मीडिया में रिलीज होने के बाद इस पर आपत्ति जताते हुए निर्माता-निर्देशक से आपत्तिजनक दृश्य और संवाद हटाने की मांग की है। प्रदेश कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने कहा कि इस फिल्म का ट्रेलर देखा गया है। कांग्रेस निर्माता-निर्देशक से मांग करती है कि इस फिल्म को रिलीज करने के पहले पार्टी के जिम्मेदार नेताओं को दिखाया जाए। ट्रेलर में ही कुछ आपत्तिजनक दृश्य और संवाद हैं, जिससे प्रतीत होता है कि इसके जरिए कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की छवि को कलंकित करने का प्रयास किया जा रहा है। इस तरह के दृश्य और संवाद फिल्म में नहीं होना चाहिए। ओझा ने कहा कि फिल्म के माध्यम से किसी पार्टी और उसके शीर्ष नेताओं की छवि खराब करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। यह बात वे पार्टी नेता होने के नाते कह रही हैं। यह फिल्म 11 जनवरी को रिलीज होने वाली है। इसका ट्रेलर सोशल मीडिया में दिखायी दे रहा है। इस मुद्दे को लेकर भाजपा और कांग्रेस के नेताओं के बीच बयानबाजी भी शुरू हो गयी है।
देश आज एक झंडे के नीचे खड़ा है, यह कांग्रेस की देन: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस को विविधता में एकता का सम्मान करने वाली पार्टी बताते हुए आज कहा कि भारत में विभिन्न भाषा भाषी, विभिन्न जाति एवं धर्मों को मानने वाले लोग रहते हैं, लेकिन आज पूरा भारत एक झंडे के नीचे खड़ा है, यहां कांग्रेस की ही देन है।
कमलनाथ ने यहां पार्टी के प्रदेश मुख्यालय में कांग्रेस के 134वें तथा सेवादल के 96वें स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि इस अनेकता में एकता की नीव पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने डाली थी। यही कारण है कि पूरा विश्व भारत की ओर देख रहा है कि यहां इतनी विभिन्नता के बाद भी यह देश एक कैसे है और कैसे एक झंडे के नीचे खड़ा है। उन्होंने कहा कि हम गर्व से कह सकते हैं कि हम उस संस्था के सदस्य हैं, जो जानती है कि भारत को कैसे चलाया जा सकता है। कमलनाथ ने कहा कि हम सांप्रदायिक लोगों को बेनकाब करने का संकल्प लें। इस देश के लोग नफरत की राजनीति से दूर रहना चाहते हैं। आज समाज को बांटने वाली राजनीति से हर नागरिक को लडऩा पड़ रहा है। इस हालत में देश को कांग्रेस की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस हर धर्म का आदर करने वाली पार्टी है। उन्होंने कहा कि लोगों को कांग्रेस पर भरोसा है और कांग्रेस से ही उम्मीद है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस ही ऐसा दल है, जो गर्व से कह सकता है कि देश में जो स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हैं, वे कांग्रेस के ही हैं। जो दल राष्ट्रवाद की बात करते हैं उनके यहां एक नाम भी ऐसा नहीं, जिसने स्वतंत्रता संग्राम में भाग लिया हो। वे किस मुंह से राष्ट्रवाद की बात करते हैं। इस अवसर पर उन्होंने कांग्रेस का ध्वज फहराया और झंडे को सलामी दी।
कार्यक्रम में प्रदेश कांग्रेस के संगठन प्रभारी उपाध्यक्ष चंद्रप्रभाष शेखर और कांग्रेस सेवादल के अध्यक्ष योगेश यादव ने कांग्रेसजनों को पार्टी की रीति-नीति और आदर्शों का पालन करने की प्रतिज्ञा दिलवायी। इस मौके पर मध्यप्रदेश शासन के कैबिनेट मंत्री पीसी शर्मा, पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, कांग्रेस पदाधिकारी संजय कपूर, राजीव सिंह, प्रकाश जैन, शोभा ओझा सहित अनेक नेता एवं कांग्रेसजन उपस्थित थे।