प्रशासनिक अधिकारियों के अनुभव की विविधता ही उनकी पूंजी

मुख्यमंत्री कमल नाथ ने मुख्य सचिव बीपी सिंह को दी औपचारिक विदाई

भोपाल, 29 दिसम्बर। मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा है कि भारत ही शायद ऐसा एकमात्र देश है, जहाँ प्रशासनिक अधिकारी को अपने सेवाकाल के दौरान सर्वाधिक अनुभव होते हैं। अनुभव की विविधता ही उनकी पूंजी बन जाती है और सेवाकाल समाप्त होते-होते वे ज्ञान का जलाशय बन जाते हैं। उन्होंने कहा कि यह भी विचार करने की आवश्यकता है कि समृद्ध अनुभवों का लाभ प्रदेश और समाज को कैसे और किस रूप में मिले। नाथ ने आज यहां मंत्रालय में सेवानिवृत हो रहे मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह को औपचारिक विदाई दी। नाथ ने कहा कि सिंह ने कर्तव्यनिष्ठा और कर्मठता के साथ प्रदेश को अपनी सेवाएँ दी हैं। प्रशासनिक सेवा में उनके योगदान को याद रखा जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रशासनिक अधिकारियों को अचीवमेंट और फुलफिलमेंट का हमेशा ध्यान रखना चाहिये और लक्ष्य तय करना चाहिये1 उन्होने कहा कि दोनों में संतुलित मिलाप होना चाहिये। प्रशासनिक सेवा से जुड़े अधिकारियों को हमेशा फुलफिलमेंट की तरफ बढऩा चाहिए, क्योंकि उन्होंने सेवा में चयनित होकर अचीवमेंट तो पहले ही हासिल कर लिया है। नाथ ने विनोदपूर्ण लहजे में कहा कि हर प्रशासनिक सेवक सेवानिवृत्त होता है लेकिन राजनीति में सेवानिवृत्ति जनता तय करती है।
मुख्यमंत्री कमलनाथ के साथ काम करने का बहुत कम समय मिला: बीपी सिंह: सेवानिवृत्त हो रहे मुख्य सचिव सिंह ने कहा कि उन्हें मुख्यमंत्री कमल नाथ के साथ काम करने का बहुत कम समय मिला। उन्होंने कहा कि नाथ एक साफ नजरिया रखने वाले राजनेता है। उनके निर्देशों में स्पष्टता होती है। इसलिए उनके परिणाम भी अच्छे और जल्दी मिलते हैं। मुख्यमंत्री ने सिंह को स्मृति स्वरूप उपहार भेंट किया। अपर मुख्य सचिव प्रभांशु कमल ने कार्यक्रम का संचालन किया। इस अवसर पर सभी वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे। प्रमुख सचिव सामान्य प्रशासन श्रीमती अरुण रश्मि शमी ने आभार व्यक्त किया।