साहब चले दिल्ली

सूबे के बड़े नौकरशाह आखिर प्रदेश से रवानगी का मूड बना चुके हैं। साहब को पूरा भरोसा था कि इस बार वो सबसे बड़ी कुर्सी पर बैठने में सफल हो जायेंगे ,लेकिन वजीरेआला ने कोई तवज्जो नहीं दी। हालांकि साहब लगातार इसके लिए कोशिश करते रहे ,लोब्बिंग कराने की भी खूब कोशिश हुई। लेकिन सूबे के मुखिया के पास साहब को लेकर जो खबरें पहुंची उसमे यह था कि इन बड़े नौकरशाह की वजह से कई बार पूर्व सरकार की किरकिरी हुई। अडिय़ल रवैये से जिस विभाग में रहे वहां कर्मचारी हड़ताल के लिए मजबूर होते रहे। लिहाजा साहब का ऊंची कुर्सी पर पहुंचना दूर की कौड़ी ही साबित हुआ। अब जब 15 साल तक प्रताडि़त रहे एक नए साहब को नए सरकार ने सुधि ली तो अब साहब ने दिल्ली का रुख कर लिया।
… खबरची