घोषणा वो करें जिन्हे नीति बनाकर जिम्मेदारी से पूरा करना है : कमलनाथ

जय जय कमलनाथ ,जियो नाथ चलेंगे साथ साथ से गूंजा पूरा आठ किलोमीटर लम्बा रोड शो
मोहन तिवारी/प्रशांत शिल्के
छिंदवाड़ा /भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बड़ा ऐलान किया है कि जनता के लिए अब वह खुद कोई घोषणा नहीं करेंगे। उन्होंने विभागों से संबंधित अधिकारियों को अब इसकी जिम्मेदारी सौंप दी है। मुख्यमंत्री बनने के बाद कमलनाथ रविवार को पहली बार छिंदवाड़ा पहुंचे। उन्होंने रोड शो के बाद जनसभा को संबोधित किया। वह इस दौरान कई बार भाव-विह्वल हो गए कमलनाथ ने कहा कि मैंने कोई घोषणा नहीं करने का फैसला किया है क्योंकि प्रदेश के लोग घोषणाओं से तंग आ चुके हैं। अब से, संबंधित अधिकारी इसे करेंगे; क्योंकि वे लोग हैं जो नीति बनाते हैं, यह उनकी जिम्मेदारी होगी।
छिंदवाड़ा से वोट और प्यार लेकर पहुंचता हूं संसद में
कमलनाथ ने छिंदवाड़ा से अपने रिश्ते को याद करते हुए कहा, संसद में जब मैं बैठता हूं, तो दूसरे सांसदों की ओर देखता हूं कि वे लोगों के वोट लेकर आए हैं। मैं केवल वोट लेकर नहीं आता, बल्कि प्यार और विश्वास लेकर संसद में बैठता हूं।
40 साल पहले का छिंदवाड़ा कुछ और था
अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कमलनाथ ने कहा कि वह आज जहां हैं, वहां तक पहुंचाने का छिंदवाड़ा के हर नागरिक को श्रेय जाता है। उन्होंने कहा कि 40 साल पहले का छिंदवाड़ा कुछ और था, और आज का कुछ और है। छिंदवाड़ा की अपनी पहचान है।
कमलनाथ ने बीते 38 सालों में छिंदवाड़ा में हुए विकास कार्यों का ब्यौरा दिया और कहा, यहां के नौजवानों ने वह छिंदवाड़ा नहीं देखा, जहां एक भी रेल नहीं आती थी, पातालकोट में तीन घंटे पैदल चलने पर ही नीचे पहुंच पाते थे। वहां के निवासी पहले सिर्फ नमक लेने बाहर आते थे। उन्हें दुनिया से कोई मतलब नहीं था. आम की गुठली से आटा बनाते थे, महुआ के फूल की शराब पीते थे। उनके तन पर जरूरी कपड़े नहीं हुआ करते थे, मगर अब वे जीन्स पहनने लगे हैं। जीप आती थी तो उसे देखने भागते थे, अब जीप आने पर उन्हें धूल का डर सताता है. इतना बदलाव आ गया है यहां।कमलनाथ ने छिंदवाड़ा के युवाओं को प्रशिक्षित
और हुनरमंद बनाने के लिए किए गए प्रयासों का जिक्र करते हुए कहा, च्च्छिंदवाड़ा में जितने स्किल सेंटर है, उतने दुनिया के किसी भी जिले में नहीं हैं।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आदेश दिया है कि अब प्रदेश में कोई भी घोषणा मुख्यमंत्री नहीं करेंगे, बल्कि उस विभाग से जुड़ा अधिकारी करेगा जिसके अंतर्गत यह कार्य होना है और जिसकी जिम्मदारी कार्य पूरा करने की होगी। छिंडवाड़ा में ऐसा पहली बार हुआ जब मुख्यमंत्री की मौजूदगी में किसी मंत्री ने नहीं बल्कि जिला कलेक्टर ने मंच से विकास परियोजनाओं की घोषणाएं कीं। सरकार बनने के बाद पहली बार अपने गृह क्षेत्र छिंदवाड़ा पहुंचे मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि मध्य प्रदेश में अब कोई भी घोषणा मुख्यमंत्री नहीं करेंगे। इस मौके कमलनाथ ने छिंदवाड़ा के कलेक्टर के जरिए मंच से घोषणाएं भी करवाईं। छिंदवाड़ा के कलेक्टर ने बताया कि जिले में कृषि महाविद्यालय खोला जाएगा और 1 मार्च 2019 से छिंदवाड़ा शहर के लिए प्रतिदिन पानी की सप्लाई शुरू हो जाएगी। इसी के साथ छिंदवा?ा में 8 किलोमीटर की लंबाई की स?क को चौ?ा किया जाएगा और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भवन का निर्माण किया जाएगा। कमलनाथ ने कहा कि अब छिंदवाड़ा की जनता ही मंत्री है।
कमलनाथ का पीएम पर तंज
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज करते हुए कहा कि वे चुनावों के दौरान छिंदवाड़ा आए थें। लेकिन उन्होंने किसानों और नौजवानों की बात नहीं की, सिर्फ कमलनाथ की आलोचना की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को छिंदवाड़ा की जनता को जवाब दिया इसीलिए छिंदवाड़ा की सभी सीट कांग्रेस जीती। कमलनाथ ने कहा कि पीएम मोदी का मुंह बहुत चलता है लेकिन जनता बहुत समझदार है जो स्वागत तो करती है और बड़े अच्छे से विदा भी करती है।
युवाओं पर विशेष नजर
कमलनाथ ने कहा कि युवाओं ने वो छिंदवाड़ा नहीं देखा जब ट्रेन नही थी, सड़के नहीं थी। पहले पातालकोट के लोग जो धोती पहनते थे आज जीन्स पहनते हैं। 40 सालों में लोगों ने छिंदवाड़ा को बदलते देखा है। लेकिन अब जिम्मेदारी सिर्फ छिंदवाड़ा की नही बल्कि पूरे प्रदेश की है। उन्होंने कहा कि आज का नौजवान जो इंटरनेट से जुड़ा है उसकी अपनी सोच है, तड़प है जो ठेके या कमीशन के लिए नही है। छिंदवा?ा के नौजवानों का मुझपर बोझ था आज यहां जितने स्किल

 

डेवलपमेंट सेंटर हैं वो देश दुनिया मे कहीं नही हैं।
रोज पानी, एग्रीकल्चर कॉलेज, पट्टों का तोहफा लेकर छिंदवाड़ा आए ‘साहबÓ का महास्वागत
-छिंदवाड़ा। मुख्यमंत्री बनने के बाद पहली बार छिंदवाड़ा पहुंचे कमलनाथ ने नई परंपरा की शुरूआत की। उन्होंने खुद मंच से कोई घोषणा नहीं की बल्कि अफसरों से टाइम लिमिट में काम करने की बात कहते हुए घोषणा करवाई। उन्होंने अपने भाषण में इस बात का जिक्र किया कि मध्यप्रदेश की जनता घोषणाओं से बड़ी त्रस्त है, इसलिए अब घोषणाएं नहीं काम होगा। कमलनाथ के भाषण से पूर्व छिंदवाड़ा कलेक्टर श्रीनिवास शर्मा ने घोषणा करते हुए कहा कि छिंदवाड़ा में एग्रीकल्चर कॉलेज खोला जाएगा, साथ ही एक मार्च २०१९ से शहर में रोजना पानी सप्लाई किया जाएगा। साथ ही १२ से अधिक परिवारों को पट्टा सहित कई अन्य महत्वपूर्ण घोषणाएं की। जिले में ५०० नए हैंडपंप लगाने के साथ पुराने हैडपंप की मरमम्त, सिंचाई योजनाओं के साथ ही टाइम लिमिट में काम करवाने की घोषण कलेक्टर के माध्यम से करवाई गई।
पोला ग्राउँड में हुए समारोह में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने २३७ करोड़ रूपए के विभिन्न कार्र्याें का भूमिपूजन व लोकापर्ण किया। समारोह में जिला कांग्रेस कमेटी सहित जिले के सातों नवनिर्वाचित विधायकों ने श्री नाथ का मालाओं से जोरदार स्वागत किया। इसके पूर्व दोपहर करीबन साढ़े बारह बजे मुख्यमंत्री कमलनाथ छिंदवाड़ा हवाई पट्टी पहुंचे और यहां पर सेवादल ने उन्हें सलामी दी। इसके बार मुख्यमंत्री कमलनाथ सीधे खुले रथ पर सवार हुए। हवाई पट्टी से पोलाग्राउंड तक हजारों समर्थकों के साथ चल रहे नाथ का सौ से भी अधिक स्थानों पर स्वागत किया गया।
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने छिंदवाड़ा की जनता के साथ अपने रिश्तों को अपनी पूंजी बताते हुए कहा कि यहां की जनता को गुमराह करने के लिए मोदीजी भी आए थे लेकिन यहां की जनता ने उन्हें एकदम सही जवाब देकर विदा कर दिया। उन्हें यहां से ज्ञान लेकर जाना था। उन्होंने कहा कि ३८ सालों में छिंदवाड़ा को बदलते देखने वाले बुजुर्गों का आशीर्वाद उनके साथ हैं। उन्होंने कहा कि जब वे संसद में बैठते हैं और बाकी सांसदों को देखते तो साफ दिखता है वो लोग वोट लेकर यहां आएं और और मैं छिंदवाड़ा की जनता का विश्वास और प्यार लेकर आया हूं। उन्होंने कहा कि अब सिर्फ छिंदवाड़ा नहीं पूरे प्रदेश की जिम्मेदारी है। साथ ही प्रदेश में रोजगार बढ़ाने की बात पर कहा कि रोजगार कोई मंदिर या मस्जिद में नहीं मिलता है, इसके लिए निवेश की जरूरत है। अब इसके लिए माहौल बनाया जाएगा, काम समय पर हो इसका ध्यान रखा जाएगा। मुख्यमंत्री कमननाथ ने कहा कि वे प्रदेश में महिलाओं को असुरक्षित नहीं रहने देंगे बल्कि सम्मान के साथ रखेंगे। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि उन्हें नौजवानों के भविष्य की चिंता है। श्री नाथ ने कहा कि छिंदवाड़ा की नई पीढ़ी ने पुराना छिंदवाड़ा नहीं देखा है खास तौर पर वो पातलाकोट नहीं देखा जहां पहले सीमित कपड़े पहने लोग रहते थे। केवल नमक लेने ऊपर आते थे। अब वहां नौजवान धोती, पैजामा नहीं पहनता बल्कि जींस पहनता है।
पहले ही दौरे में करोड़ों की सौगात
मुख्यमंत्री कमल नाथ ने छिन्दवाड़ा में 11 विभागों के 2 अरब 70 करोड़ 24 लाख रूपये लागत के 36 निर्माण कार्यो का भूमि-पूजन और लोकार्पण किया। इसमें एक अरब 99 करोड़ 62 लाख रूपये के 22 निर्माण कार्यो का भूमि-पूजन और 70 करोड़ 62 लाख रूपये लागत के 14 निर्माण कार्यो का लोकार्पण शामिल है।मुख्यमंत्री कमल नाथ ने किसान कल्याण तथा कृषि विभाग के अंतर्गत जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्व विद्यालय जबलपुर के एक अरब 34 करोड़ 44 लाख रूपये लागत के कृषि उद्यानकी महाविद्यालय का भूमि-पूजन किया। मुख्यमंत्री ने संभागीय परियोजना यंत्री लोक निर्माण पी.आई.यू. विभाग के 19 करोड़ 75 लाख रूपये लागत के 9, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के 5 करोड़ 84 लाख रूपये लागत के 4, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के 3 करोड़ 19 लाख रूपये लागत के 5, नगर पालिक निगम छिन्दवाड़ा के 13 करोड़ 35 लाख रूपये लागत के एक और नवीन एवं नवीकरणीय विभाग के 22 करोड़ 2 लाख रूपये लागत के एक निर्माण कार्य का भी भूमि-पूजन किया। उन्होंने संभागीय परियोजना

यंत्री लोक निर्माण पी.आई.यू. विभाग के 7 करोड़ 11 लाख रूपये लागत के 5, लोक निर्माण विभाग के 54 करोड़ 70 लाख रूपये लागत के एक, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के 2 करोड़ 32 लाख रूपये लागत के 5 और पुलिस विभाग के 6 करोड़ 49 लाख रूपये लागत के 3 निर्माण कार्यो का लोकार्पण भी किया।