सिंधिया के हस्तक्षेप से दो घंटे के अंदर किसान को मिली खुशी

सुनील दत्त तिवारी
शिवपुरी/भोपाल। ज्योतिरादित्य सिंधिया केवल अपनी उपाधि से ही महाराज नहीं हैं ,बल्कि लोगों की सरोकारों के मुद्दे पर उनकी संवेदनशीलता उन्हें महाराज बनाती है। ऐसा ही एक मामला पिछले दिनों देखने को मिला जहाँ सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया के हस्तक्षेप के दो घंटे के अंदर किसान के खेत में ट्रांसफॉर्मर रख दिया गया। दरअसल , शिवपुरी जिले में किसान द्वारा कलेक्टर के पैरों पर गिरकर गुहार लगाने के मामले में ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गंभीरता दिखाई है। ज्योतिरादित्य सिंधिया की फटकार के बाद मामले ने तूल पकड़ा तो प्रशासन हरकत में आया और रविवार को अजीत जाटव को पांच हॉर्स पावर के पंप के लिए बिजली कनेक्शन दे दिया गया। बिजली कंपनी के महाप्रबंधक आरके अग्रवाल ने रविवार को बताया कि कृषक को विद्युत कनेक्शन प्रदान किया जा चुका है। मुख्यमंत्री कृषक अनुदान योजना में कृषक अजीत जाटव द्वारा पांच हॉर्स पावर पम्प कनेक्शन लेने हेतु 14 अगस्त 2018 को राशि जमा कराई गई थी। राज्य के लगभग हर हिस्से में रविवार को सोशल मीडिया पर एक विडियो वायरल हुआ, जिसमें एक किसान हाथ में बर्बाद हुई फसल लिए हुए है, उसकी आंखों से आंसू बहे जा रहे हैं। उसका दर्द है कि बिजली की अनुपलब्धता के चलते उसकी फसल बर्बाद हो गई। उसने ट्रांसफार्मर बदलकर बिजली कनेक्शन दिए जाने के लिए छह माह पहले ही राशि जमा कर दी, इसके बावजूद उसे कनेक्शन नहीं मिल सका है। सिंधिया ने कलेक्टर को फटकार लगाते हुए रविवार शाम तक पीड़ित किसान अजीत के खेत पर ट्रांसफार्मर लगाने को कहा। इसके बाद सिंधिया ने किसान से खुद फोन पर बात भी की ,इस दौरान पीड़ित किसान की आंखों में आंसू छलक उठे। शनिवार को जिले की कोलारस तहसील के अंतर्गत रन्नोद क्षेत्र का किसान अजीत अपनी मांग लेकर कलेक्टर ऑफिस पहुंचा था। वहां पर कलेक्टर उसकी मुलाकात नहीं हो पाई ,लेकिन जब कलेक्टर कुछ देर बाद घर जाने के लिए निकले तो किसान अजीत तो उनके पैरों पर गिर गया और मदद की गुहार लगाने लगा। किसान ने कलेक्टर को बताया कि उसले खेत में ट्रांसफार्मर नहीं है। इसके लिए उसने क्षेत्र के सुपरवाइजर को ट्रांसफार्मर लगवाने के लिए करीब 6 महीने पहले पैसे दिए थे। लेकिन अभी तक सुपरवाइजर ने ट्रांसफार्मर नहीं लगवाया। जिसकी वजह से फसल सूखने की कगार पर है, इसके बाद किसान ने कहा कि अगर फसल बर्बाद हो गई उसका जीवन यापन करना मुश्किल हो जाएगा। किसान कई अधिकारियों के पास अपनी परेशानी लेकर गया लेकिन कहीं कोई सुनवाई नहीं हुई इस बीच कलेक्टर ने किसान को आश्वासन देते हुए कहा कि अभी यहीं बैठो किसी को भेज कर मामले की जांच करवाते हैं। जब इसकी सूचना गुना सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को मिली तो उन्होंने फटकार लगाते हुए कहा कि ट्रांसफार्मर लगवाने के बाद शाम तक पीड़ित किसान अजीत को अपने ऑफिस बुलाकर फोन से बात कराएं। इसके बाद कोलारस के पूर्व विधायक महेंद्र यादव के सामने मंडल के लोग अजीत के खेत पर पहुंचे। वायरल हो रहे विडियो से पता चल रहा है कि कार्यालय से बाहर निकलतीं जिलाधिकारी अनुग्रह पी के पैरों पर किसान अपना सिर रखता हुआ, गिड़गिड़ाते हुए कह रहा है कि बहिन जी मेरी सुन जाओलेकिन जिलाधिकारी उनकी बात नहीं सुनती और कार में जाकर बैठ जाती हैं। तभी एक नेता जिलाधिकारी की कार के करीब आता है तो जिलाधिकारी अपनी कार का शीशा खोलती हैं और वह नेता जिलाधिकारी को पानी संबंधी समस्या बताता है। उस नेता के पीछे खड़ा किसान अजित अपना दुखड़ा सुनाता है, तब कहीं जाकर जिलाधिकारी उनकी बात सुनती हैं और जांच की बात कहने के बाद आगे बढ़ जाती हैं।