दिग्विजय ने की थी सीबीआई जांच की मांग

भोपाल के सबसे महंगे इलाकों में शामिल न्यू मार्केट के निकट गैमन इंडिया कंपनी को 15 एकड़ जमीन देने के मामले में दो हजार करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप लगाते हुए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इस समूचे मामले की सीबीआई द्वारा जांच कराए जाने की मांग की थी। नवंबर 2012 में ही दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को लिखे एक पत्र में इस प्रकरण में की गई अनियमितताओं का जिक्र करते हुए कहा था कि इस प्रकरण में हुई अनियमितताओं को देखते हुए सरकार को लगभग दो हजार करोड़ रुपये से भी अधिक के राजस्व की हानि हुई है। सिंह ने अपने चार पृष्ठों के पत्र में कहा था कि इसकी जांच और अनियमितताओं के लिए उत्तरदायी व्यक्तियों को दंडित करने के लिए सीबीआई द्वारा जांच कराया जाना आवश्यक है। पत्र के माध्यम से दिग्विजय सिंह ने आशंका जताई थी कि यह बेशकीमती भूमि राज्य पुनर्घनत्वीकरण योजना की आड़ में निजी कंपनी को सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक के निर्माण के लिए आवंटित की गई। इस मुद्दे को वह पहले से ही उठाते आ रहे थे और जमीन को दीपमाला इंफ्रास्ट्रक्चर प्रणाली को पक्ष में लीज होल्ड भूमि को फ्री होल्ड कर देने से राज्य सरकार को दो हजार करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है। अपने पत्र में सिंह ने कहा कि हाल में ही राज्य सरकार ने इस संबंध में गड़बडिय़ों को लेकर दायर की गई एक याचिका को लेकर जानकारी दी है कि जमीन को फ्री होल्ड करने संबंधी आदेश को राज्य सरकार ने वापस ले लिया है। उन्होंने कहा कि इससे ही प्रमाणित हो जाता है कि उनके द्वारा उठाई गई बातें सत्य हैं और इस समूचे मामले की जांच आवश्यक है।