छात्रावासों को सुदृढ़ करना मेरी प्राथमिकता: ओंकार सिंह मरकाम

विभाग की समीक्षा बैठक में अधिकारियों को दिए निर्देश

सुनील दत्त तिवारी
भोपाल, 4 जनवरी। मध्यप्रदेश के आदिम जाति एवं जनजातीय विभाग के अंतर्गत आने वाले छात्रावासों को सुदृढ़ करना मेरी प्राथमिकता है। मध्यप्रदेश की सरकार को लोग विज्ञापन से नहीं, बल्कि काम से जानें, यह हमारी कोशिश है। यह कहना है मध्यप्रदेश शासन के जनजातीय कार्य विभाग, विमुक्त घुमक्कड़ एवं अद्र्धघुमक्कड़ जनजाति कल्याण विभाग मंत्री ओंकार सिंह मरकाम का। उन्होंने राष्ट्रीय हिन्दी मेल से विशेष चर्चा में कहा कि मैंने पदभार संभालने के बाद अधिकारियों से सबसे पहले यह कहा कि वे मध्यप्रदेश को अपना प्रदेश समझकर काम करें। यदि वे अपनत्व की भावना के साथ काम करेंगे तो प्रदेश का विकास सही दिशा में होगा। मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार ने प्रदेश की जनता से जो वादे किए हैं, उन्हें तय समय में जमीन पर उतारना भी हमारी प्राथमिकता होगी। ओंकार सिंह मरकाम ने बताया कि प्रदेश में दूरदराज के इलाकों में जो छात्रावास बने हैं, उनमें अभी भी मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। जिसकी वजह से छात्रावास में रहने वाली छात्राओं को असुविधा का सामना करना पड़ता है। इसलिए सबसे पहले छात्रावासों को सुविधा संपन्न बनाएंगे, ताकि छात्राओं को बेहतर शिक्षा मिल सके । उन्होंने बताया कि कांग्रेस सरकार ने अपने वचन पत्र में जो भी घोषणाएं की हैं, उन पर अमल किया जाएगा। ओंकार सिंह मरकाम ने आज मंत्रालय में पदभार ग्रहण करने के बाद अधिकारियों को भी इस बात के निर्देश दिए कि वे कांग्रेस के वचन पत्र को सरकार का वचन पत्र मानकर काम करें। उन्होंने बताया कि सरकार के लिए जनहितैषी योजनाएं बनाना आसान है, लेकिन योजना का क्रियान्वयन नहीं हो पाता, जिसकी वजह से जनता को लाभ नहीं मिल पाता। उन्होंने बताया कि हमारी सरकार की यह प्राथमिकता है कि प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ हितग्राहियों तक पहुंचे, यह भी हमें देखना है।