आध्यात्म में हुआ धर्मस्व और आनंद विभाग का विलय

राज्य सरकार ने जारी किए आदेश, राजपत्र में होगा प्रकाशन

भोपाल, 5 जनवरी। मध्यप्रदेश की कमलनाथ सरकार ने शिवराज सरकार में गठित किए गए आनंद और धर्मस्व विभाग को आध्यात्म विभाग में विलय कर दिया है। राज्य सरकार ने इसके आदेश भी जारी कर दिए हैं। आध्यात्म विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव वरिष्ठ आईएएस अफसर मनोज श्रीवास्तव बनाए गए हैं। ज्ञात रहे कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर आध्यात्म विभाग के गठन को लेकर गुरुवार को विधिवत आदेश जारी कर दिये गए थे। इस आदेश को राजपत्र में प्रकाशन के लिए भेजा गया है। ‘धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग और आनंद विभाग का विलय कर गठित किये आध्यात्म विभाग को लेकर कांग्रेस ने अपने 112 पेज के घोषणा पत्र में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर आध्यात्म विभाग बनाने का वादा किया था। सरकार बनते ही मुख्यमंत्री कमलनाथ के कार्यालय सीएमओ एमपी के ट्विटर पर बीते दिनों ट्वीट के जरिए इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया गया था कि ‘धार्मिक न्यास, धर्मस्व विभाग और आनंद विभाग को शामिल करते हुए नवगठित आध्यात्म विभाग में धार्मिक न्यास और धर्मस्व संचालनालय, तीर्थ एवं मेला प्राधिकरण, मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना संचालनालय और राज्य आनंद संस्थान समाहित होंगे। जिसके बाद सामान्य प्रशासन विभाग ने गुरुवार को अध्यात्म विभाग के गठन के आदेश जारी कर दिये हैं। आदेश के अनुरूप राजपत्र में इसका प्रकाशन होगा। गौरतलब है कि आनंद विभाग का गठन अगस्त 2016 में किया गया था, जिसे 28 महीने बाद कमलनाथ सरकार ने आध्यात्म विभाग में विलय कर दिया। इसके अलावा 39 साल पुराने धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग को भी आध्यात्म विभाग में विलय किया गया है। धार्मिक संस्थाओं एवं धार्मिक न्यासों के अंतर्गत आने वाले कार्यों की देख-रेख के लिए 1 जुलाई 1981 को धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग का गठन पृथक विभाग के रूप में किया गया था। इस विभाग का कार्य जिला स्तर पर कलेक्टर द्वारा कराया जाता है। हालांकि विभाग में कोई विभागाध्यक्ष कार्यालय स्थापित नहीं है। ऐसे में अधिकारियों, कर्मचारियों का कोई संवर्ग भी नहीं है। कमलनाथ सरकार बनने के बाद इस विभाग का आध्यात्म विभाग में विलय कर दिया गया है।
इनका कहना है
आध्यात्म विभाग के गठन को लेकर आदेश हो गये हैं। आदेश का राजपत्र में विधिवत प्रकाशन किया जाएगा। नवगठित आध्यात्म विभाग में धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व विभाग और आनंद विभाग का विलय किया गया है।
केके कातिया, अपर सचिव जीएडी मप्र