मध्यप्रदेश में सरकारी नौकरी अब हुई आसान…

पिछले 13 वर्षों से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की सलतनत में जिस कोटरी ने कब्जा कर लिया था उसके चलते अच्छे-अच्छे नौकरशाहों की नींद उड़ गई थी। एक बड़े जिले में कलेक्टर रहे नौकरशाह का रातों-रात उस जमाने में तबादला हुआ था तब उन्होंने यह कहा था कि भारतीय प्रशासनिक सेवा की नौकरी में भी तबादलों के लिए कोई आई.ए.एस. अधिकारी किसी बिल्डर के यहां जाकर सलाद काटे और अपना तबादला करवाए इससे बड़ा कोई दुर्भाग्य नहीं हो सकता। उक्त नौकरशाह ने यहां तक कहा कि कलेक्टर जैसे नौकरशाहों के तबादलों के लिए दलाली वसूल करने वाले लोगों ने अच्छे कलेक्टरों का भी जीना हराम कर दिया था। वे आगे नाम नहीं छापने की शर्त पर कहते हैं मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ बिलों द बैल्ट जाकर न तो बदले की भावना से काम कर रहे हैं और न ही योग्य तथा डिलेवरी सिस्टम को ठीक करने वाले नौकरशाहो ंकी उपेक्षा कर रहे हैं, यह मध्यप्रदेश में लगता है नौकरशाहों के लिए काम करने का स्वर्णिम युग आ गया है। उक्त नौकरशाह ने एक कदम आगे बढ़कर कहा कि मध्यप्रदेश में सरकारी नौकरी अब आसान हो गई है, कोई भी हो चैन से काम करे यह बात उन्हें मुख्यमंत्री के ओएसडी ने कही बड़ी बात है… -खबरची