मैं जयवर्धन से कहूंगा जनता की सेवा करना गोपाल भार्गव से सीखें : दिग्विजय सिंह

भोपाल, 8 जनवरी। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आज विधानसभा परिसर में मीडिया से बातचीत में कहा कि मैं जयवर्धन से कहंूगा कि वो जनता की सेवा करना गोपाल भार्गव से सीखें। वे लगातार पिछली 8 बार से विधायक का चुनाव जीतते आ रहे हैं। उनके घर में सुबह से लेकर शाम तक भंडारा चलता है। गोपाल भार्गव के घर पर उनके क्षेत्र के लोग आकर रहते हैं, सुबह चाय, नाश्ता, खाना सब उन्हें मिलता है, वे भोपाल आते हैं और अपना काम पूरा करके चले जाते हैं। आने वालों में क्षेत्र के बीमार लोग भी शामिल होते हैं। मैं जयवर्धन से कहंूगा कि वे भी गोपाल भार्गव जैसे वरिष्ठ नेता से जनता की सेवा करना सीखें। साथ ही उन्होंने गोपाल भार्गव को विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष बनाए जाने पर कहा कि मैं भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय को धन्यवाद देता हूं कि उन्होंने गोपाल भार्गव के नाम का समर्थन किया। इसके अलावा उन्होंने भाजपा में चल रही अंदरूनी गुटबाजी पर कहा कि कैलाश विजयवर्गीय और शिवराज सिंह चौहान आपस के झगड़े में विधानसभा को गोपाल भार्गव जैसे अनुभवी नेता प्रतिपक्ष मिले हैं। दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर हॉर्स टे्रडिंग का आरोप लगाते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार को गिराने की लगातार कोशिश कर रही है। इसके लिए भाजपा कांग्रेस के एक विधायक को 100 करोड़ रुपए देने का प्रस्ताव दे रही है। प्रदेश विधानसभा परिसर में सिंह ने मंगलवार को कहा मैहर से भाजपा के विधायक नारायण त्रिपाठी ने मुरैना जिले के सबलगढ़ से कांग्रेस के विधायक बैजनाथ कुशवाह से संपर्क किया और उन्हें एक ढाबे पर ले गए। वहां भाजपा के नेता और पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा और विश्वास सारंग ने कुशवाह से मुलाकात की और कांग्रेस की सरकार गिराने के लिए 100 करोड़ रुपए देने का प्रस्ताव दिया। इसके साथ ही दोनों ने भाजपा की बनने वाली नई प्रदेश सरकार में मंत्री पद देने का लालच भी कुशवाह को दिया। कांग्रेस के कई विधायकों को इस प्रकार का लालच देने का दावा करते हुए सिंह ने कहा कि भाजपा नेताओं ने कुशवाह से तैयार खड़े चार्टर हवाई जहाज में साथ चलने के लिए कहा, लेकिन कुशवाह ने इससे इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि शिवराज सिंह चौहान विचलित हैं, क्योंकि वह अपनी हार को पचा नहीं पा रहे हैं। सिंह के आरोपों के सवाल पर नरोत्तम मिश्रा ने कहा, वह काफी समय से इस प्रकार के आरोप लगा रहे हैं। छपास रोग के कारण किसी पर अनर्गल आरोप नहीं लगाना चाहिए। मैं किसी ढाबे पर नहीं गया। यदि उनके पास सबूत है तो उन्हें इस मामले में कानूनी कार्रवाई करना चाहिए। वहीं नेता प्रतिपक्ष एवं भाजपा विधायक गोपाल भार्गव ने दिग्विजय सिंह के बयानों को गंभीरता से नहीं लेने की बात कही। भार्गव ने कहा कि इतनी बड़ी राशि आपने सुनी नहीं होगी। दिग्विजय के बयान को गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। वह गप्पबाजी करते हैं। आप जानते हैं केंद्र में भाजपा की अटल जी की सरकार एक वोट से गिर गई थी। इसलिए भाजपा इस तरह के हथकंडों में विश्वास नहीं करती है। वहीं विश्वास सारंग ने कांग्रेस नेता को चुनौती दी कि सिंह अपने आरोप साबित करें। सारंग ने कहा कि यह शिगूफेबाजी है। अब वे साबित करें कि हम किसी ढाबे में गए थे। कांग्रेस की सरकार है, कार्रवाई करे। वीडियो दिखाएं। अगर यह साबित होता है तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा।