मेरे पास तो टीवी का रिमोट नहीं

राजनीति भी अजब है, कहते हैं जिसने राजनीति सीख ली, उसके सामने सारे ज्ञान बेकार हैं। प्रदेश में भी जब से सत्ता बदली है, कई ऐसे नजीर सामने आते रहे हैं, जो मनोरंजन के साथ ही साथ कई अन्य सन्देश भी दे जाते हैं। अपने वजूद को जिन्दा रखने के लिए नेता चाहे वो कितना ही बड़ा क्यों न हो, हर वो काम कर देता है जो दिखाई भी दे और सुनाई भी। अपने ही प्रदेश के सत्ताधारी पार्टी में एक बड़े कद के नेता हैं, जिन्होंने पिछले दिनों कहा कि मुझ पर आरोप लगाया जाता है कि मैं रिमोट कण्ट्रोल से सरकार चला रहा हूं, जबकि मेरे पास तो चैनल बदलने के लिए भी घर में रिमोट नहीं होता। अब यह बयान क्यों दिया, क्या किसी खबरनवीस ने उनसे यह पूछा था? जी नहीं किसी ने नहीं पूछा फिर यह बयान क्यों दिया? शायद वजूद बचा रहे इसीलिए, वरना सरकार तो सबके नाथ ही चला रहे हैं। … खबरची