शिवराज सरकार के ईमानदार प्रमुख सचिव पर संदेह के बादल

मध्यप्रदेश में भाजपा सरकार ने जिन 13 वर्षों में शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में सत्ता का संचालन किया, उनमें कुछ नामचीन नौकरशाह ऐसे थे, जिन्हें हर साल ईमानदारी का प्रमाण-पत्र घोषित या अघोषित रूप से मिल ही जाता था। उल्लेखनीय है कि इन्हीं नौकरशाहों में एक प्रमुख सचिव ईमानदारी का खिताब जीतकर इतने फूल गए कि उन्हें लगातार जिम का सहारा लेना पड़ा। अब जब से सत्ता कांगे्रस को मिली है और उड़ती चिडिय़ा का पंख पहचानने वाले अनुभवी तथा पारखी नेता कमलनाथ मुख्यमंत्री बने हैं, तब से उपरोक्त नौकरशाह की वाट लग गई है। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने निर्देश दिया है कि इस तरह के तथाकथित ईमानदार नौकरशाहों की फाइलों को खंगाला जाए और लोकायुक्त, ईओडब्ल्यू, ईडी जितनी भी जांच एजेंसियां हंै उनको उपरोक्त नौकरशाह की जांच में लगा दिया जाए। एक नौकरशाह ने नाम नहीं छापने की शर्त पर कहा- बहुत मटकते थे महाशय, अब पता चलेगा जब जाएंगे जेल। …. खबरची