जन-जन की यही पुकार, अब अलविदा जुमला सरकार : सिंधिया

सिंधिया-प्रियंका-राहुल गांधी की चल पड़ी आंधी, रोड शो में उमड़ा जनसैलाब
लखनऊ, 11 फरवरी।
कहते हैं दिल्ली की सरकार यूपी से होकर जाती है। सभी राजनीतिक दलों की प्राथमिकता में भी 80 लोकसभा सीटों वाला सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश होता है। यहां कांग्रेस पार्टी का प्रदर्शन पिछले कई चुनावों में खराब रहा है। यही वजह है कि सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने नवनियुक्त पार्टी महासचिव (पूर्व) प्रियंका गांधी और महासचिव (पश्चिम) ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ लखनऊ में रोड शो कर पार्टी कार्यकर्ताओं में नया जोश भरने की कोशिश की। उन्हें देखने सुनाने वालों की भीड़ उमड़ पडी थी। रोड शो के बाद लोगों को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने प्रियंका और सिंधिया को यूपी भेजने के अपने प्लान के बारे में भी बताया। रोड शो में शामिल ज्योतिरादित्य सिंधिया ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा, सिंधिया ने ट्वीट करते हुए लिखा-जन जन की यही पुकार, अब अलविदा जुमला सरकार।
राहुल ने कहा कि यूपी से ही कांग्रेस पार्टी की शुरुआत हुई थी और यहां पार्टी कमजोर नहीं रह सकती है। उन्होंने कहा, ‘यूपी में पार्टी को खड़ा करने का काम मैंने प्रियंका और ज्योतिरादित्य सिंधिया को दिया है। मैंने इनसे कहा है कि लोकसभा चुनाव में तो बेहतर प्रदर्शन होना ही चाहिए, इसके साथ ही विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की सरकार बनानी पड़ेगी।Ó कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि इस जिम्मेदारी को एक इंच बिना पीछे हटे पूरा करना होगा। प्रियंका, सिंधिया समेत कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता राज्य में सरकार बनाने के मिशन में जुट जाएं। इस दौरान उन्होंने ऐलान किया कि कांग्रेस पार्टी किसी भी प्रदेश में बैकफुट पर नहीं, फ्रंटफुट पर खेलेगी। उन्होंने कहा कि हमारी पार्टी बेझिझक, बिना डरे, बिना घबराए हर प्रदेश में फ्रंटफुट पर खेलेगी। राहुल ने कहा कि यह विचारधारा की लड़ाई है। एक तरफ कांग्रेस है, जिसकी विचारधारा प्यार, भाईचारा और जनता को जोडऩे की है। दूसरी तरफ बीजेपी-आरएसएस और नरेंद्र मोदी की विचारधारा देश को तोडऩे, नफरत फैलाने की, देश को कमजोर करने की है। राहुल ने कहा कि आपने नतीजा देख लिया है कि नरेंद्र मोदी ने पांच साल में या किया? उन्होंने कहा कि यहां के युवा कह रहे हैं कि चौकीदार ने एक को भी रोजगार नहीं दिया। मोदी ने कहा था कि हर साल 2 करोड़ लोगों को रोजगार देंगे लेकिन उन्होंने केवल अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाया। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि देश के किसान कह रहे हैं कि साढ़े तीन लाख करोड़ रुपये 15 लोगों का माफ किया जा सकता है पर किसानों का माफ नहीं किया जा सकता है? संबोधन के दौरान उन्होंने बार-बार ‘चौकीदार चोर हैÓ का नारा भी लगवाया।
Óजमीनी नेता चाहिए, हेलिकॉप्टर वाले नहींÓ: उन्होंने कहा कि राज्य के लोगों ने सबको देख लिया है, अब उन्हें कांग्रेस की सरकार चाहिए। यूपी में कांग्रेस को आगे बढ़ाना है और इसके लिए जमीनी नेताओं को आगे लाने की जरूरत है। जो हेलिकॉप्टर से आते हैं चले जाते हैं, हमें वे नहीं चाहिए। युवाओं से राहुल ने कहा, ‘मोदी जी आए थे, 56 इंच की छाती बताई थी। मैं पीएम नहीं चौकीदार बनना चाहता हूं। अखबार में आया है कि राफेल पर वायु सेना की जो बात चल रही थी उसमें पीएम ने हस्तक्षेप किया।Ó राहुल ने आरोप लगाया कि हर डिफेंस डील में भ्रष्टाचार के खिलाफ एक लॉज होता है, उसमें लिखा होता है कि अगर भ्रष्टाचार होता है तो कार्रवाई की जा सकती है और करार कैंसल भी किया जा सकता है लेकिन पीएम मोदी ने देश की जनता का पैसा लूटकर अनिल अंबानी को दे दिया। मोदी जी का खोखलापन देश के युवाओं और किसानों के सामने आ गया है।

सीएम कमलनाथ का आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और जनता को समर्थन
नई दिल्ली। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपना, कांग्रेस पार्टी और मध्यप्रदेश राज्य का आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्रबाबू नायडू और आंध्र प्रदेश की जनता को विशेष राज्य का दर्जा देने के लिए आयोजित एक दिवसीय धरना में समर्थन दिया। आंध्र प्रदेश भवन में आयोजित धर्म पोरता दीक्षा न्याय संघर्ष के लिए केन्द्र सरकार की वादा खिलाफी पर एक दिवसीय अनशन किया गया। ज्ञात हो कि केन्द्र सरकार ने आंध्र प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम 2014 के अंतर्गत आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिया जाना था, जो अभी तक नहीं दिया गया है। मध्यप्रदेश मुख्यमंत्री कमलनाथ ने बताया कि यू.पी.ए. सरकार के दौरान संसदीय कार्यमंत्री की हैसियत से उन्होंने न केवल आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की बहस में भाग लिया, बल्कि संसद द्वारा आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने के लिए केन्द्र की प्रतिबद्धता का भी साक्षी रहा हूं। यह आंध्र प्रदेश की जनता के साथ अन्याय है। उन्होंने नायडू को सिद्धांतवादी बताया और कहा कि कई बार अपने सिद्धांतों के लिए वह कांग्रेस पार्टी के खिलाफ भी खड़े हो जाते थे और इस समय आंध्र प्रदेश की जनता के लिए वह केन्द्र के खिलाफ अनशन कर रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री मध्यप्रदेश दिग्विजय सिंह ने भी कांग्रेस पार्टी की प्रतिबद्धता को दोहराते हुए आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने का समर्थन किया। उन्होंने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने संसद के पटल पर आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की प्रतिबद्धता जाहिर की थी। पर अब केन्द्र सरकार किन्हीं राजनीतिक कारणों के कारण अनदेखा कर रही है।
अवैध शराब बिक्री पर सख्ती से लगाया जाए अंकुश: मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश की पुलिस और आबकारी विभाग को प्रदेश में अवैध शराब की बिक्री करने वालों के खिलाफ सतत् अभियान चलाने के निर्देश देते हुए कहा है कि इस पर सख्ती से अंकुश लगाया जाए। कमलनाथ ने कहा है कि प्रदेश में जो लोग भी अवैध शराब की बिक्री में लिप्त हैं, ऐसे लोगों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए और इस पर सख्ती से अंकुश लगाया जाए। उन्होंने कहा कि अवैध शराब की बिक्री के अड्डे नेस्तनाबूद किए जाएं। पड़ोसी राज्यों की सीमाओं पर विशेष चौकसी बरती जाए, जहां से अवैध शराब का परिवहन संभव हो सकता है। प्रदेश के किसी भी हिस्से से इस तरह के मामले सामने आते हैं तो दोषी जिम्मेदार अधिकारी पर कड़ी कार्र्रवाई होगी।