गले मिलने, गले पडऩे का अंतर संसद में ही पता चला


16वीं लोकसभा के समापन सत्र में बोले मोदी


नई दिल्ली, 13 फरवरी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को 16वीं लोकसभा के समापन सत्र को संबोधित किया। इस दौरान मोदी ने कहा कि इस सदन में मुझे गले लगने और गले पडऩे का अंतर पता चला। मोदी संसद में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान हुई घटना का जिक्र कर रहे थे, जिसमें राहुल ने अपने भाषण के बाद अचानक मोदी को गले लगा लिया था। उन्होंने राहुल पर तंज कसा कि हम सुनते थे कि सदन में भूकंप आएगा।
5 साल में विपक्ष ने ताकत बढ़ाने का काम किया: मोदी ने कहा कि तीन दशक के बाद हमने पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाई थी। आजादी के बाद पहली बार बिना कांग्रेस के गोत्र वाली सरकार बनाई थी। कांग्रेस का गोत्र नहीं, ऐसी पहली मिली-जुली सरकार अटलजी की थी और ऐसी पूर्ण बहुमत वाली सरकार 2014 में बनी। प्रधानमंत्री ने विपक्ष की तारीफ भी की। मोदी ने कहा- अगर 5 साल के ब्योरे को देखें तो विपक्ष ने इसकी ताकत को बढ़ाने का काम किया। सदन के सभी साथियों का इसमें गौरवपूर्ण योगदान है।
आज भारत की दुनियाभर में सुनवाई हो रही: मोदी ने कहा, अंतरिक्ष में हमने अपना अलग स्थान बनाया। वैश्विक परिवेश में भारत को गंभीरता से सुना जा रहा है। लोगों को भ्रम होता है कि मोदीजी-सुषमाजी के कार्यकाल में हमारी दुनिया में सुनवाई हो रही है। लेकिन, इसके पीछे एक सच्चाई है, जो है पूर्ण बहुमत की सरकार। दुनिया इसे पहचान देती है। 30 साल तक इसकी कमी से हमें बहुत नुकसान हुआ। उस देश का नेता जिसके पास पूर्ण बहुमत होता है, तो दुनिया जानती है कि इसकी अपनी एक ताकत है। इसका पूरा यश न मोदी को और न सुषमा को जाता है, ये सवा सौ करोड़ देशवासियों के उस निर्णय को जाता है।
नतमस्तक होकर सभी सांसदों का आभार व्यक्त करता हूं: उन्होंने कहा, पहली बार यहां आया तो बहुत सी चीजें नई जानने को मिलीं, जिनका मुझे अर्थ ही नहीं मालूम था। पहली बार मुझे पता चला कि गले मिलना और गले पडऩे में क्या अंतर होता है। पहली बार सदन में देख रहा हूं कि आंखों से गुस्ताखियां होती हैं। यह खेल भी पहली बार इसी सदन में देखने को मिला। इसका देश के मीडिया ने भी बहुत मजा लिया। संसद की गरिमा बनाए रखना हर सदस्य का दायित्व होता है और हमने उसकी भरपूर कोशिश की है। इस बार हमारी सांसद महोदया के टैलेंट का भी अनुभव मिला। सभी स्टाफ का धन्यवाद करता हूं। मैं नतमस्तक होकर सभी सांसदों का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं, धन्यवाद।
धोखा और धमकी मोदी सरकार की नीति: सोनिया गांधी ने कांग्रेस संसदीय दल की बैठक के दौरान कहा कि मोदी सरकार का सिद्धांत धोखा देना और डराना-धमकाना है, जो लोग पहले खुद को अजेय समझते थे, उन्हें राहुल गांधी और उनके कार्यकर्ताओं ने अपना सबकुछ देकर कड़ी टक्कर दी। सोनिया ने राहुल की तारीफ करते हुए कहा- कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद राहुल ने अथक मेहनत की और उन्होंने देश की तरक्की के लिए ऐसे दूसरे दलों से भी बात की, जो हमारी तरह की सोच रखते हैं।
राजस्थान-मप्र-छग में जीत से उम्मीद जागी: सोनिया ने कहा कि राहुल गांधी अपने विरोधी को टक्कर दे रहे हैं। सोनिया ने कहा कि राहुल की टीम में अनुभव और युवा जोश का सही संतुलन है। राजस्थान, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में हमारी जीत ने हमें नई उम्मीद दी है। हम अगले लोकसभा चुनाव में पूरे आत्मविश्वास और संकल्प के साथ उतरेंगे। हमारे विरोधी पहले खुद को अजेय समझ रहे थे। कांग्रेस अध्यक्ष ने उन्हें चुनौती दी। जिस सोच में हमारा विश्वास था, उसके बल पर हम जीते। मोदी सरकार के समय आज पूरे देश में भय और घृणा का माहौल है। पूर्वोत्तर जल रहा है। जम्मू-कश्मीर के हालात बदतर हैं। दलित-आदिवासी और अल्पसंख्यकों को निशाना बनाया जा रहा है। किसानों ने इतनी बड़ी मुश्किलें कभी नहीं झेलीं। बेरोजगार युवाओं ने निराशा का ऐसा दौर कभी नहीं देखा।
राफेल डील को लेकर जोरदार हंगामा : राफेल डील को लेकर बुधवार को लोकसभा में जोरदार हंगामा हुआ। विपक्ष ने चौकीदार चोर है, के नारे लगाए गए। इस पर स्पीकर ने सदन की कार्यवाही को तीन बजे तक स्थगित कर दिया था। इसके बाद विपक्षी सांसद बाहर आए और संसद परिसर में प्रदर्शन किया। बजट सत्र का आज आखिरी दिन था।