दिग्विजय घटिया सोच के व्यक्ति: शिवराज


विदिशा, 6 मार्च। बुधवार को बाढ़ वाले गणेश मंदिर पर अखंड रामायण पाठ और यज्ञ में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान अपनी धर्मपत्नी साधना सिंह के साथ शामिल हुए। मीडिया से बात करते हुए उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के बयानों को लेकर उन्हें घटिया मानसिकता का व्यक्ति बताया। बाढ़ वाले गणेश मंदिर पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के जन्मदिन के मौके पर आयोजित हुए धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने के बाद मीडिया से बात करते हुए शिवराज ङ्क्षसह चौहान ने कहा कि दिग्विजय सिंह घटिया मानसिकता के व्यक्ति हैं। वे हमेशा ऐसे विवादित बयान देते हैं, जिससे वे लाइम लाइट में बने रहे। जानबूझकर पूरी सोच-समझ रखकर बयान देते हैं ताकि मीडिया को मसाला देते रहें। वे अपने बयानों से शहीदों की शहादत का अपमान कर रहे हैं। धारा के विपरीत बयान देकर लाइम लाइट में बने रहना चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि उनके बयानों को लेकर वे कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते। वहीं मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा प्रदेश के किसानो को समर्थन मूल्य 160 रूपए प्रति क्विंटल के रूप में दिए जाने की घोषणा के सवाल पर उन्होंने कहा कि हमने पहले ही किसानों को 2100 रूपए प्रति क्विंटल गेहंू खरीदने का वचन दिया था। सरकार को भी 2100 रूपए पर गेहंू खरीदना चाहिए ताकि किसानों को उनकी लागत मूल्य का हिस्सा मिल सके। इसके अलावा भी अन्य जिंसों को लेकर भी हमने पहले ही मूल्य तय कर लिया था। सरकार चुनाव को देखकर फुटकर-फुटकर में फायदा पहुंचाने का दिखावा कर रही है। श्रेय लेने की राजनीति के सवाल पर शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कांगे्रस एक नई परंपरा को जन्म दे रही है। चुने हुए जनप्रतिनिधि किसी भी पार्टी का हो, उसे सम्मान मिलना चाहिए। यहां वे अपने पार्टी पदाधिकारियों और हारे हुए प्रत्याशी को भी मुख्य अतिथि के रूप में शामिल कर रहे हैं, जो चुने हुए जनप्रतिनिधि का अपमान है। उन्होंने ग्वालियर का उदाहरण देते हुए कहा कि जिस अस्पताल का मैं पूर्व में शुभारंभ कर चुका था। श्रेय लेने के चलते कांगे्रस के नेता उसे दोबारा उद्घाटित कर रहे हैं। विरोध करने पर हमारे कार्यकर्ताओं को लाठियों से पीटा जा रहा है।
महिला सशक्तिकरण के बिना भारत का उदय संभव नहीं: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा मजदूर पेंशन योजना एवं आतंकवाद के खात्मे से एक नए भारत का उदय हो रहा है। भोपाल देश की सबसे स्वच्छ राजधानी घोषित हुई है। उन्होंने कहा कि नए भारत का उदय महिला सशक्तिकरण के बिना संभव नहीं है। प्रधानमंत्री मोदी ने देश में महिला सशक्तिकरण की दिशा में श्रेष्ठ कार्य किए हैं। अगले पांच साल में हम कौन से कार्य करें, उसके लिए आज विचार करना आवश्यक है। यह बात पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने महिला मोर्चा द्वारा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के सभागार में आयोजित प्रबुद्ध महिला सम्मेलन के दौरान कही। कार्यक्रम में महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती लता ऐलकर, श्रीमती साधना सिंह चौहान, पूर्व मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस, मोर्चा की राष्ट्रीय मंत्री श्रीमती सुखप्रीत कौर, पार्टी की प्रदेश मंत्री व विधायक श्रीमती कृष्णा गौर ने अपने विचार व्यक्त किए। सम्मेलन में प्रदेश में विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाली महिलाओं ने अपने विचार रखे एवं सुझाव दिए।