30 दिन में बना था ‘नोटबुक’ का यह तैरता सेट


नूतन की पोती की इस फिल्म के सेट को वाकई पानी पर तैराया गया।

सलमान खान के प्रोडक्शन की फिल्म ‘नोटबुक’ के लिए एक अनोखे प्रकार का फ्लोटिंग सेट बनाया गया था। जहीर इकबाल और प्रनूतन अभिनीत तथा नितिन कक्कड़ निर्देशित फिल्म नोटबुक में 2007 के दौरान की कहानी को दिखाया गया है। एक झील के पानी पर बने एक स्कूल पर कहानी केंद्रित है यह फिल्म, इसीलिए निर्माताओं ने एक सेट बनाया जो वाकई पानी पर खड़ा किया गया था।इसे बनाने में 30 दिन का समय लगा और 80 सदस्यों ने हर दिन कई घंटे इस पर काम किया। इस असाधारण सेट को दो युवा लड़कियों उर्वी अशर और शिप्रा रावल द्वारा डिजाइन किया गया है। उन्होंने फिल्म ‘नोटबुक’ के सेट के लिए बतौर आर्ट डिजाइनरों के रूप में काम किया । इस फ्लोटिंग सेट के बारे में बात करते हुए, राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता निर्देशक नितिन कक्कड़ ने कहा “यह पहली बार है जब मैंने एक वास्तविक स्थान पर बनाए गए सेट पर शूटिंग की है। आर्ट डिजाइनर उर्वी और शिप्रा का काम बहुत कमाल का रहा। यकीन नहीं हो रहा था कि सेट कभी इतना अच्छा होगा। इस तरह का सेट बनाना बहुत मुश्किल था क्योंकि यह तैर रहा था। यह 30 दिनों के लिए हमारा घर बन गया था। जिस दिन सेट पर काम पूरा हुआ तो मेरा दिल भर आया। इस सेट से बहुत-सी यादें जुड़ हुई थी, अब मैं इन यादों को जीवनभर संभालकर रखूंगा।”बता दें कि नवोदित कलाकार प्रनूतन और ज़हीर इकबाल पर फिल्माए गए गीत “नहीं लगदा” को 70 लाख से ज्यादा बार देखा गया है। इससे पहले, सलमान खान ने एक भव्य इवेंट में ‘नोटबुक’ के ट्रेलर को रिलीज किया था। कश्मीर की पृष्ठभूमि में स्थापित “नोटबुक” दर्शकों को एक रोमांटिक सफऱ पर ले जाएगी। ‘नोटबुक’ को कश्मीर की खूबसूरत घाटियों में फि़ल्माया गया है, जिसमें दो प्रेमी फिरदौस और कबीर की प्रामाणिक प्रेम कहानी के साथ-साथ बाल कलाकारों की दमदार कास्टिंग देखने मिलेगी जो कहानी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। यह 29 मार्च, 2019 को रिलीज हो रही है।